बिहार के इस ज़िला में बनेगा राज्य का पहला स्टील फाइबर वाला ब्रिज, जानिए क्या होगी इसकी खासियत

प्रदेश में यातायात व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए लगातार कई विकासशील परियोजनाओं पर काम चल रहा है। कई सारी सड़कों के साथ-साथ नए पुलों का निर्माण भी जारी है। के अलावा भविष्य के लिए कई नए प्रोजेक्ट की तैयारी चल रही है। इसी क्रम में भागलपुर में विक्रमशिला सेतु के समानांतर एक नए पुल का निर्माण कराया जाएगा। इस ब्रिज की खास बात यह होगी कि इसको स्टील फाइबर (रिइंफोर्सड कंक्रीट टेक्नोलॉजी) व एक्सट्रा डोज का इस्तेमाल कर बनाया जाएगा।

बता दें कि इस तकनीक से बनने वाला बिहार का यह पहला आधुनिक ब्रिज होगा। इसके रखरखाव की लागत भी कम होगी तथा यह 100 वर्षों तक आराम से चल पाएगा। इस पुल की डिजाइन का काम रोडिक कंसलटेंट को मिला है। हाल में ही सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने विक्रमशिला पुल के समानांतर प्रस्तावित फोरलेन पुल के निर्माण और अत्याधुनिक तकनीक की डिजाइन को लेकर बैठक की थी। बैठक में बंदरगाह, जहाजरानी और जलमार्ग मंत्री सर्बानंद सोनोवाल और रोडिक कंसल्टेंट के इंजीनियर भी शामिल थे। बैठक के बाद अत्याधुनिक तकनीक की डिजाइन को बनाने में तेजी आई है।

जानकारी के अनुसार गंगा नदी पर विक्रमशीला सेतु के समानांतर 4.367 किमी लंबे नए फोर लेन पुल का निर्माण होना है। इसे 4 साल में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया। जो डिजाइन तैयार किया जा रहा है, उसमें 4.367 किमी लंबे सेतु के साथ नवगछिया की ओर 875 मीटर और भागलपुर की ओर 987 मीटर एप्रोच रोड भी शामिल है। इस नए फोरलेन सेतु के बनने से नवगछिया से भागलपुर होते हुए झारखंड की सीमा तक पहुंच आसान हो जाएगा।