आम आदमी बनकर सफदरजंग अस्पताल पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री को गार्ड ने डंडा मारकर भगाया, जानिये विस्तार से

पिछले महीने 24 अगस्त की रात को देश के स्वास्थ्य मंत्री श्री मनसुख मांडविया आम आदमी बनकर सफदरगंज अस्पताल की हालत देखने पहुंचे। वहां वे जब एक बेंच पर बैठे थे तो वहां के गार्ड ने उन्हें डंडा मारकर भगा दिया। स्वास्थ्य मंत्री मैं खुद यह बात सफदरगंज अस्पताल में 4 नए सुविधाओं के उद्घाटन के मौके पर कहा। उन्होंने बताया कि अस्पताल में कई सारी अव्यवस्थाएं देखने को मिली। उन्होंने बताया कि 75 साल की वृद्ध महिला अपने बेटे के लिए स्ट्रेचर ढूंढ रही थी वह उन्हें नहीं मिला मैंने किसी तरह स्ट्रेचर का इंतजाम किया।

उन्होंने बताया कि मैंने सारी बातें पीएम मोदी से भी शेयर की थी तो उन्होंने मुझसे पूछा कि तुमने किसी को सस्पेंड किया या नहीं। तो मैंने कहा कि..

नहीं सर, हमारे सिस्टम में गड़बड़ी है जिसे सुधार करने की जरूरत है। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि अस्पताल में भारी संख्या में गार्ड मौजूद है तो किसी वृद्ध महिला को स्ट्रेचर ले जाने में मदद क्यों नहीं कर सकते।

स्वास्थ्य मंत्री कहते हैं कि मैंने जब अस्पताल में कई सारे बाउंसर को देखा तो मुझे लगा कि अस्पताल में इनकी जरूरत क्यों है। फिर मेरे ध्यान में आया कि कई सारे मरीजों के परिजन अस्पताल आते हैं तो वे काफी गुस्से में होते हैं। उनको संभालने के लिए ही बाउंसर की जरूरत पड़ती है। अब मरीजों के परिजन गुस्से में क्यों होते हैं यह क्या बताने की जरूरत है। हमें अपने सिस्टम में सुधार करना बहुत जरूरी है। मैं चाहता तो उस दिन दो तीन डॉक्टरों को सस्पेंड कर सकता था। मैंने सोचा कि नहीं, हमें हमारे सिस्टम में सुधार की जरूरत है।