HomeझारखंडRanchi news- West Singhbhum News: डीजीपी के चाईबासा दौरे से वापस लौटते...

Ranchi news- West Singhbhum News: डीजीपी के चाईबासा दौरे से वापस लौटते ही नक्सलियों का तांडव, जेसीबी समेत 4 गाड़ियों में लगाई आग

अमरेन्द्र कुमार ज्ञानी, चाईबासाझारखंड के पश्चिमी सिंहभूम जिले में पुलिस और सीआरपीएफ की ओर से चलाए जा रहे अभियान के कारण नक्सली बैकफुट आ गए हैं। बावजूद इसके उनकी ओर से समय-समय पर पुलिस को चुनौती दी जा रही है। बुधवार को नक्सलियों ने लांजी-दरकदा सड़क निर्माण में लगे चार वाहनों को आग के हवाले कर दिया है। इस घटना से कुछ ही देर पहले पश्चिमी सिंहभूम के दौरे पर आए सूबे के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) नीरज सिन्हा वापस लौटे थे।नक्सलियों ने पुलिस को दी चुनौतीजिले में नक्सलियों ने इस कार्रवाई के जरिए एक तरह से पुलिस को चुनौती देने की कोशिश की है। बताया जा रहा कि लगभग 30 से 35 की संख्या में आए हथियारबंद नक्सलियों लांजी-दरकदा सड़क निर्माण स्थल पर पहुंचे और वहां खड़े एक जेसीबी, एक हाईवा और ट्रैक्टर पर डीजल छिड़ककर आग के हवाले कर दिया। इसी जगह पर पिछले दिनों उन्होंने आईईडी विस्फोट भी किया था। जिसमें तीन जवान शहीद हो गए थे।

इसे भी पढ़ें:- झारखंड में लॉकडाउन जैसी सख्ती… जिम, पार्क, स्कूल-कॉलेज, सिनेमा हॉल सब रहेंगे बंदमहाराजा प्रमाणिक के दस्ते ने जलाए वाहनजानकारी के मुताबिक, बुधवार शाम लांजी-दरकदा मार्ग पर वाहनों को जलाने में प्रतिबंधित भाकपा माओवादी संगठन के सदस्य महाराज प्रमाणिक का दस्ता शामिल है। घटना को अंजाम देने के बाद हथियारबंद करीब 30 से ज्यादा नक्सली लांजी और आसपास के क्षेत्रों में डटे हुए हैं। अंधेरा हो जाने के कारण पुलिस अभी तक घटना स्थल तक नहीं पहुंच सकी है और अधिकारी कोई भी कार्रवाई फूंक-फूंककर उठा रहे हैं।

Jharkhand News: 43 लाख रुपये की ब्राउन शुगर के साथ दो तस्कर अरेस्ट, चतरा पुलिस को ऐसे मिली कामयाबी

डीजीपी ने किया दौरा, अधिकारियों को दिए खास निर्देशइससे पहले झारखंड के डीजीपी नीरज सिन्हा बुधवार को पश्चिमी सिंहभूम जिले के चाईबासा पहुंचे। यहां टोन्टो थाना इलाके में पुलिस पिकेट का दौरा किया। साथ ही नक्सलियों के खिलाफ वर्तमान में चल रहे अभियान की समीक्षा की। डीजीपी ने आसपास के ग्रामीणों के साथ संवाद भी कायम किया और सामुदायिक पुलिसिंग के तहत उनके बीच जरूरत की वस्तुएं भी वितरित की। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश के साथ यह सुझाव भी दिया कि वे ग्रामीणों से संवाद स्थापित करें, उनका विश्वास जीतें, तभी नक्सलियों के विरुद्ध अभियान कारगर होगा।

Most Popular