Live News – वो 5 बड़े गैंगरेप, जिन्होंने पूरे देश को हिलाकर रख दिया…

नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश के हाथरस में गैंगरेप (Hathras Gang-rape) का शिकार होने के बाद दिल्ली (Delhi) के एक अस्पताल में दम तोड़ देने वाली 19 वर्षीय दलित लड़की (Dalit Girl) के पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार (Last Rites) कड़ी सुरक्षा के बीच पुलिस ने कर दिया था. जिसके बाद से उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) और देश भर में कई जगहों पर प्रदर्शन हुए. अब तक मिली जानकारी के मुताबिक कि 14 सितंबर को ऊंची जाति के चार लोगों ने उसके साथ गैंगरेप (Gang Rape) किया था. करीब दो सप्ताह तक जिंदगी से जूझने के बाद 29 सितंबर को सफदरजंग अस्पताल (Safdarjung Hospital) में उसकी मौत हो गई थी.

इसके बाद से लगातार मामले को लेकर प्रदर्शनों का दौर जारी है और कई विपक्षी दलों (Opposition Leaders) के नेता हाथरस में गैंगरेप का शिकार युवती के परिवार (Family) से मिलने जा चुके हैं. यह ऐसा मामला बन गया है जिसने पिछले साल के हैदराबाद गैंगरेप (Hyderabad Gang-rape) के बाद से फिर पूरे देश को हिलाकर रख दिया है. लेकिन दुर्भाग्य से भारत में लगातार ऐसे गैंगरेप के मामले (gang-rape cases) सामने आते रहे हैं और लोगों ने इनके खिलाफ जमकर गुस्से का पहले भी इजहार किया है. हम यहां आपको ऐसे ही 5 बड़े गैंगरेप के मामलों के बारे में बता रहे हैं, जिनसे पूरे देश में रोष व्याप्त हो गया था-

निर्भया गैंगरेप- दिल्ली के दक्षिणी इलाके में 16 दिसंबर 2012 की रात हुए महिला के सामूहिक बलात्कार और हत्या के मामले ने पूरे देश को झकझोर दिया था. इस 23 वर्षीय पीड़िता को ‘‘निर्भया” नाम दिया गया था जो फिजियोथैरेपी की छात्रा थी. चलती बस में छह लोगों ने मिलकर युवती के साथ रेप किया था. इस दौरान की गई बर्बरता के चलते कुछ दिनों बाद उसकी मौत हो गई थी. इस मामले के चारों दोषियों को इसी साल 20 मार्च को फांसी दे दी गई. सोचा गया था कि यौन उत्पीड़न के इस भयानक अध्याय का अंत होने के बाद ऐसी घटनाएं बंद हो जायेंगीं लेकिन इस ओर से निराशा ही हाथ लगी. निर्भया गैंगरेप मामले में दोषी मुकेश सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय शर्मा (26) और अक्षय कुमार सिंह (31) को फांसी हुई. इस मामले में एक आरोपी राम सिंह ने पहले ही जेल में खुदकुशी कर ली थी और एक अन्य आरोपी जो नाबालिग था उसे तीन माह की सजा के बाद छोड़ दिया गया था.

हैदराबाद गैंगरेप- तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में 2019 में महिला वेटनरी डॉक्टर से गैंगरेप के बाद हत्या और फिर लाश को जला देने की घटना ने भी देश को हिला कर रख दिया था. हैदराबाद के साइबराबाद टोल प्लाजा के पास एक महिला की अधजली लाश मिली थी. महिला की पहचान एक वेटनरी डॉक्टर के तौर पर हुई थी. पुलिस के मुताबिक, महिला की गैंगरेप के बाद हत्या की गई, फिर लाश को पेट्रोल से जलाकर फ्लाईओवर के नीचे फेंक दिया गया. वारदात में शामिल चारों आरोपियों की पहचान मोहम्मद पाशा, नवीन, चिंताकुंता केशावुलु और शिवा के तौर पर हुई थी. घटना के 9 दिनों के अंदर ही चारों आरोपियों की पुलिस एनकाउंटर में मौत हो गई. कई लोग इस एनकाउंटर पर सवाल उठा रहे हैं.कठुआ गैंगरेप- जम्मू-कश्मीर के कठुआ में जनवरी, 2018 में एक 8 साल की बच्ची के साथ गैंगरेप और हत्या की घटना को अंजाम दिया गया था. इस घटना से सांप्रदायिक तनाव पैदा हो गया था. पुलिस के मुताबिक यह हत्या क्षेत्र से बकरवाल समुदाय के सदस्यों को निकालने के लिए अंजाम दी गई थी. पुलिस के मुताबिक सांझी राम सहित कुछ स्थानीय अपराधियों ने यह साचिश रची थी. लड़की से सामूहिक बलात्कार किया गया था और उसे मारने के बाद उसके सिर पर पत्थर मार उसके शव को विक्षत कर दिया गया था. इसके बाद उसे पास के जंगल में फेंक दिया गया था.

बुलंदशहर गैंगरेप, 2016- दिल्ली से मात्र 65 किमी दूर हुए इस अपराध ने देश की बड़ी आबादी में दहशत पैदा कर दी थी. इस मामले मे जिन मां-बेटी के साथ रेप हुआ, उनका परिवार एक रिश्तेदार की तेरहवीं में शाहजहांपुर से नोएडा जा रहा था. रास्ते में बदमाशों ने झांसे से उनकी कार रुकवाई और परिवार को बंधक बनाकर उन्हें लूट लिया. इसके बाद बदमाशों ने पास के ही खेत में कई घंटों तक मां और 14 साल की बेटी से गैंगरेप किया. 14 साल की लड़की ने मार्शल आर्ट की ट्रेनिंग ले रखी थी फिर भी वह अपराधियों से जीत न सकी.

यह भी पढ़ें: हाथरस केस में आज कई होंगे बेनकाब, News18 पर देखिए सबसे बड़ा खुलासा

दिल्ली रेप कांड, 1978- यह मामला चार दशक पहले का है. जिसमें रंगा और बिल्ला नाम के दो बदमाशों ने दिल्ली में एक बहन और भाई- जिनके नाम गीता और संजय चोपड़ा थे- को लिफ्ट देने के बहाने अगवा कर लिया था. हालांकि जब दोनों को पता चला कि जिन बच्चों का उन्होंने अपहरण किया है, वे एक नौसेना अधिकारी के बच्चे हैं तो उन्होंने दोनों बच्चों को यातना देने के बाद उन्हें मौत के घाट उतार दिया था. इससे पहले दोनों ने गीता के साथ बलात्कार किया था. इन दोनों को ही 31 जनवरी, 1982 को फांसी दी गई थी.