होमझारखंडJharkhand Live News - झारखंड: 12 निजी अस्पताल ने आयुष्मान योजना में...

Jharkhand Live News – झारखंड: 12 निजी अस्पताल ने आयुष्मान योजना में किया 7.78 करोड़ का घोटाला, जानें किसे मिली कितनी रकम

गढ़वा जिले के 12 निजी अस्पतालों की ओर से केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी आयुष्मान भारत योजना में 7.78 करोड़ रुपये के गबन का मामला उजागर हुआ है। इस बाबत गढ़वा के डीसी राजेश कुमार पाठक ने स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग के सचिव को पत्र लिखकर उच्चस्तरीय जांच की सिफारिश की है। डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मी नहीं होने के बावजूद इन अस्पतालों को आयुष्मान योजना में करोड़ों रुपए का भुगतान किया गया है।

कैसे हुआ खुलासा
प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत सूचीबद्ध अस्पतालों/नर्सिंग होम में कोविड-19 टीकाकरण के लिए 20 मार्च, 2021 को सिविल सर्जन की उपस्थिति में बैठक हुई थी। इस बैठक में सूचीबद्ध अस्पतालों के प्रबंधक भी शामिल थे। बैठक में 12 निजी अस्पतालों की ओर से कोविड-19 टीकाकरण करने में सहमति प्रदान की गई। 

इन अस्पतालों ने अपने यहां कार्यरत चिकित्सकों और चिकित्साकर्मियों की सूची प्रशासन को उपलब्ध कराई। लेकिन जब सूची में दर्ज चिकित्सकों व चिकित्साकर्मियों की अस्पतालों उपस्थिति की औचक जांच हुई तो वे नदारद मिले। 8 अप्रैल, 2021 को यह औचक जांच की गई। 

प्रथम दृष्टया इन अस्पतालों को प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना व स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा व परिवार कल्याण विभाग झारखंड की ओर से निर्धारित मानकों के अनुरूप नहीं पाया गया। ऐसे में इन अस्पतालों को सरकारी राशि के गबन और वित्तीय अनियमितता में संलिप्त माना गया।

आयुष्मान भारत योजना में किस अस्पताल को अब तक कितना भुगतान
योजना के तहत साधना नर्सिंग केयर नगर ऊंटारी को 81 लाख 67 हजार 310 रुपये, कादरी हॉस्पिटल खरौंधी को 79 लाख 17 हजार 930 रुपये, मां प्रमीला हॉस्पिटल खरौंधी को 37 लाख 42 हजार 240, रूद्रा हॉस्पिटल एवं रिसर्च सेंटर भवनाथपुर को 52 लाख 65 हजार 820 रुपये, शिव शरण सेवा संस्थान भवनाथपुर को 87 लाख 89 हजार 30 रुपये, मां वैष्णवी चिकित्सालय भवनाथपुर को एक करोड़ 69 लाख 74 हजार 660 रुपये, निरोग्यम सेवा केंद्र भवनाथपुर को 32 लाख 25 हजार 140 रुपये, मां जगदंबे प्रभु सेवा सगमा बाजार को 88 लाख 46 हजार 170 रुपये, सिद्धि विनायक हॉस्पिटल डंडई को 17 लाख 94 हजार 780 रुपये, नवजीवन हॉस्पिटल बिशुनपुरा को 45 लाख 10 हजार 80 रुपये और ज्योति नर्सिंग होम मेराल को 86 लाख 20 हजार 810 रुपये का भुगतान अबतक किया जा चुका है।

Most Popular