Bihar Live News – लालू जेल में रहें या बाहर, चुनाव पर असर नहीं : सुशील मोदी

उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि भ्रष्टाचार के गंभीर मामले में सजायाफ्ता लालू प्रसाद को उनकी पार्टी ऐसे प्रचारित करती है, जैसे वे स्वाधीनता संग्राम में जेल गए हों। वे यह भी भ्रम फैलाते हैं कि यदि लालू प्रसाद चुनाव के समय जेल से बाहर होते, तो ईवीएम से जिन्न निकलता और पार्टी अच्छा प्रदर्शन करती। वे भूल गए कि 2010 के विधानसभा चुनाव में लालू प्रसाद जेल से बाहर थे और उनकी पार्टी मात्र 22 सीटों पर सिमट गई थी। हकीकत है कि बिहार की राजनीति में लालू प्रसाद की ब्रांड वैल्यू जीरो हो चुकी है।

शुक्रवार को ट्वीट कर उपमुख्यमंत्री ने कहा कि साल 2014 के लोकसभा चुनाव में राजद को 40 में से केवल 4 सीट ही मिली थी। वे अपनी पुत्री को नहीं जिता पाये थे। इसलिए इससे कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है कि वे चुनाव में कहां रहते हैं। वैसे भी लालू को जमानत मिली है। वे बाइज्जत बरी नहीं हुए है कि राजद जश्न मना रहा है। एक हजार करोड़ के चारा घोटाले के चार मामले में दोषी लालू प्रसाद ने सिर्फ चाईबासा कोषागार से 33.67 करोड़ रुपये की अवैध निकासी के मामले में सजा की आधी अवधि जेल में बितायी है। इसलिए उन्हें केवल इसी मामले में जमानत मिली है। उन्होंने अन्य मामलों में सजा की आधी अवधि भी नहीं काटी है।

बिहार में बेरोजगारी सबसे ज्यादा क्यों: तेजस्वी
नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव ने बेरोजगारी को लेकर एक बार फिर सरकार को घेरा है। शुक्रवार को किए गए ट्वीट में उन्होंने कहा कि बिहार का हर नौजवान बेरोजगारी के मुद्दे पर सवाल कर रहा है। मगर मुख्यमंत्री गैरजरूरी मुद्दों की ओर ध्यान भटकाने का असफल प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस बार युवा उन्हें असल मुद्दों से भटकने नहीं देंगे। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि उन्हें बताना ही पड़ेगा कि आखिर बिहार में बेरोजगारी सबसे ज्यादा क्यों है। बिहार से पलायन क्यों हो रहा है।