2.80 लाख कोल कर्मचारियों की बल्ले-बल्ले, 72,500 रुपये मिलेगा, जानिए कब तक मिलेगा

कोल इंडिया के करीब 2.45 लाख कर्मियों को 72500 रुपये बोनस के रूप में मिलेगा. दिल्ली में सोमवार को हुई कोल इंडिया की स्टैंडराइजेशन कमेटी की बैठक में इसका निर्णय लिया गया. इसका सीधा लाभ झारखंड के करीब 80 हजार कोयला कर्मियों को मिलेगा. बोनस का भुगतान 11 अक्तूबर को होगा. इस पर कंपनी 1900 करोड़ रुपये खर्च करेगी.

झारखंड में विभिन्न कंपनियों के करीब 80 हजार कोयला कर्मी हैं. झारखंड में सीसीएल, बीसीसीएल, इसीएल और सीएमपीडीआइ काम कर रही है. स्टैंडराइजेशन कमेटी की बैठक दिन के दो बजे से कोल इंडिया के दिल्ली स्कोप कांप्लेक्स स्थित कार्यालय में हुई. बैठक में कोल इंडिया के परफॉरर्मेंस लिंक रिवार्ड (पीआरएल) के भुगतान के मुद्दे पर करीब आठ घंटे बात हुई. इसमें चारों मान्यता प्राप्त सेंट्रल ट्रेड यूनियनों के साथ-साथ कोल इंडिया के वरीय अधिकारी शामिल हुए.

कोल इंडिय पर 1815 करोड़ का पड़ेगा अतिरिक्त बोझ

बीसीसीएल बोनस के तौर पर अपने 39 हजार कर्मचारियों को 300 करोड़ रुपये का भुगतान करेगी। पिछले साल कोयला कामगारों को 68,500 रुपये बोनस मिला था। कोल इंडिया पर इस मद में 1815 करोड़ का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा। कोल इंडिया प्रबंधन के साथ बैठक दोपहर दो बजे शुरू हुई। यूनियन प्रतिनिधियों ने एक लाख रुपये की मांग की। इस पर प्रबंधन ने 65 हजार रुपये की बात कही। आखिर में 72,500 रुपये पर सहमति बनी। बैठक में कोल इंडिया के डीपी विनय रंजन, बीसीसीएल के डीपी पीवीआर राव, डीपी संजय कुमार, विभिन्न कंपनियों के निदेशक वित्त व यूनियन की तरफ से भारतीय मजदूर संघ से सुरेंद्र पांडे व सुधीर घुर्डे, एटक से रमेंद्र कुमार, सीटू से डीडी रामानंदन और एचएमएस से नाथूलाल पांडेय व एसके पांडेय शामिल थे।