हेडमास्टर को जूतों की माला पहनाकर गांव में घुमाया, पारा शिक्षिका पर गंदी नजर रखने की दी सजा

पारा शिक्षिका को मानसिक रूप से प्रताड़ित करने और उस पर गलत नीयत रखने पर गांववालों ने हेडमास्टर (HM) को अजीब सजा दी। जूते-चप्पल की माला पहनाकर पूरे गांव में पैदल घुमाया। यह घटना झारखंड के चाईबासा के मनोहरपुर प्रखंड के बचमगुटु गांव की है। आरोप है कि उत्क्रमित मध्य विद्यालय के हेडमास्टर रमेश चंद्र महतो पारा शिक्षिका की नियुक्ति को अवैध बताकर मानसिक रूप से प्रताड़ित करता था और उस पर गंदी नजर रखता था।

पीड़ित पारा शिक्षिका ने बताया- ‘मंगलवार को रमेश चन्द्र महतो ने कहा कि तुम्हारी अवैध नियुक्ति को लेकर एक लेटर बनाया है। उसको प्रिंट करा कर ऑफिस जाऊंगा। इसी बात पर दोनों के बीच जमकर कहासुनी होने लगी’। शिक्षिका ने रमेश चन्द्र महतो की हल्की पिटाई भी कर दी। इधर, स्कूल में हो रहे शोरगुल को सुन कर आसपास मौजूद लोग मौके पर पहुंच गए। इसके बाद ग्रामीणों ने जूतों की माला पहनाई और नारेबाजी करते हुए गांव में करीब एक किलोमीटर तक घुमाया। ग्रामीणों ने HM को स्कूल से हटाने की भी मांग की है।

बताया- ‘नियुक्ति 2003 में उत्क्रमित मध्य विद्यालय, बचमगुटु में हुई थी। 2005 में रमेश चन्द्र महतो का पदस्थापन इसी स्कूल में हुआ। बाद में वह साल 2020 में स्कूल के हेड मास्टर बने। उसके बाद से मेरी नियुक्ति को अवैध बताते हुए तरह-तरह से प्रताड़ित करने लगे। इस बात पर कई बार कहासुनी भी हुई। गलत नीयत भी रखते हैं। नियुक्ति प्रमाण-पत्र भी अपने पास रखे हुए हैं’। आरोप है कि HM ने शिक्षिका से 50 हजार रुपए की मांग भी की थी।

प्राचार्य रमेश चंद्र महतो अक्सर स्कूल में देर रात को लड़कियों को लेकर आते थे। पूछताछ करने पर वे रिश्तेदार होने की बात कहा करते थे। आपत्ति जताने पर स्कूल के काम का हवाला दिया करते थे। ऐसा कई बार हो चुका है।

– सुरेश चंद्र दास अध्यक्ष, उमवि बच्चोमगुटु

मेरे ऊपर जो आरोप लगाए गए हैं, गलत हैं। शिक्षका की नियुक्ति प्राइमरी स्कूल में हुयी थी। डीपीई पास की है। टेट पास की है। वेतन बीए ट्रेंड का मिल रहा था। विभागीय कार्रवाई हुई है। इस कारण नाराजगी है।

-रमेश चंद्र महतो, आरोपित प्रधान शिक्षक