भारत का पहला साउंड प्रूफ हाईवे हसीन वादियों के बीच बनकर हुआ तैयार, जानिए इसकी खासियत

हसीन वादियों के बीच मध्य प्रदेश में देश का पहला साउंड प्रूफ हाईवे बन कर तैयार हो गया है। यह भारत में अब तक का अनोखे किस्म का पहला हाईवे है। यहां खूबसूरत वादियों के बीच बेहतरीन हाईवे का सफर काफी सुहाना है। इस हाईवे से एक बार पूछ लेंगे तो बार-बार बिछड़ने का जी करेगा। आज हम अपने स्पेशल स्टोरी में हाईवे की खासियत के बारे में बताने जा रहे हैं।

29 किलोमीटर लंबी सड़क को बनाया गया है साउंड प्रूफ।

मध्य प्रदेश के सिवनी से नागपुर तरफ जाने वाले इस हाईवे पर जानवरों के लिए अंडरपास बनाया गया है।

बताने वाले इस हाईवे का लोकार्पण केंद्रीय सड़क मंत्री श्री नितिन गडकरी ने 16 सितंबर को किया। इस हाईवे का 29 किलोमीटर हिस्सा पेंच नेशनल पार्क के बीचो बीच गुजरता है। ऐसे में गाड़ियों के शोर और लाइट से जानवरों को डिस्टरबेंस ना हो इसके लिए इस हाइवे को साउंडप्रूफ बनाया गया है ।

960 करोड़ में हुआ है निर्माण।

इस हाईवे पर 3145 मीटर लंबाई के 14 अंडरपास बनाए गए हैं ताकि पेंच टाइगर रिजर्व के वन्य प्राणी आसानी से विचरण कर सकें। हाइवे पर चलने वाली गाड़ियों की आवाज और लाइट वन्यजीवों को डिस्टर्ब ना करे। इसके लिए भी फोरलेन सड़क के दोनों किनारों पर साउंड बैरियर और हेडलाइट रिड्युसर लगाकर 4 मीटर ऊंची स्टील की दीवार खड़ी की गई है।

वन्य जीव आसानी से पार कर सकते हैं सड़क।

इस हाईवे पर कहीं भी कोई गड्ढा नहीं है। हाईवे दोनों तरफ से जंगल और पहाड़ी इलाकों से गुजरता है जिससे सफर काफी सुहाना हो जाता। इस आईडी को वाइल्डलाइफ की सेफ्टी के ध्यान में रखकर बनाया गया। देश में पहली बार इस तरह के हाइवे का निर्माण किया है। सड़क के ऊपर गाड़ियों का ट्रैफिक होता है तो सड़क के नीचे बनाए गए ऐनिमल अंडरपास से बाघ समेत दूसरे जानवरों की आवाजाही बिना रुके बनी रहती है।