सीए की परीक्षा में भाई-बहन बने टॉपर। पढ़ाई में दिया एक दूसरे का साथ। पढ़िए इनकी प्रेरणादायक कहानी

आईसीएआई ने आज सीए फाइनल और फाउंडेशन (जुलाई) 2021 के नतीजे जारी किए।अधिकांश परीक्षाओं की तरह सीए की परीक्षा में भी एक लड़की ने ही टॉप किया। चार्टर्ड एकाउंटेंट्स की अंतिम परीक्षा (नए पाठ्यक्रम) के लिए पंजीकृत 83,606 उम्मीदवारों में से 19 वर्षीय नंदिनी अग्रवाल ने 800 में से 614 अंक लाकर ऑल इंडिया टॉपर बनी । उनके 21 वर्षीय भाई, सचिन अग्रवाल ने ऑल इंडिया रैंक (AIR) 18 हासिल की है।

मध्य प्रदेश के मुरैना जिले के विक्टर कॉन्वेंट स्कूल के छात्र, सचिन और नंदिनी ने 2017 में कक्षा 12 पास की। नंदिनी ने बचपन में ही दो कक्षाएं छोड़ दी थीं इसलिए, वह कक्षा 2 से अपने बड़े भाई साथ एक ही कक्षा में हैं। भाई-बहन की सफलता पर पूरे परिवार में हर्ष का माहौल है।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी दोनों भाई बहनों की सफलता पर ट्वीट कर उन्हें बधाई दी है। इसके अलावा कई अन्य स्थानीय नेताओं ने उनकी सफलता पर उन्हें बधाई दिया है। सब ने कहा है कि इन दोनों भाई-बहनों ने मुरैना और पूरे मध्यप्रदेश का नाम रोशन किया है। दरअसल दोनों भाई बहन बचपन से ही टॉपर रहते आए हैं। 12वीं की परीक्षा में दोनों ने 94.5 फ़ीसदी अंक लाकर संयुक्त रूप से टॉप किया था।

एक पत्रकार से बात करते हुए नंदिनी अग्रवाल ने कहा कि मैंने बचपन में दो क्लास छोड़ दी थी और दूसरी कक्षा से ही हम भाई-बहन क्लासमेट रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रतिद्वंद्विता के बजाए हम भाई-बहन एक दूसरे का समर्थन करते थे। वास्तव में, मेरे भाई ने मेरी सफलता में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

नंदिनी ने कहा कि मैं और भैया कठिन समस्याओं से निपटने के लिए अपना सिर एक साथ रखेंगे। हमने हमेशा एक-दूसरे की मदद की है। वहीं, सचिन ने कहा कि सीए क्रैक करना मेरी मां का सपना था। इनके पिता नरेश चंद्र गुप्ता एक टैक्स प्रैक्टिशनर हैं, जबकि मां डिंपल गुप्ता गृहिणी हैं।