लड़की के अंदर दरोगा बनने का था जंनून, शादी के डर से छोड़ दिया था घर, लौटी तो वर्दी पहन कर

कहते हैं जब इंसान कुछ करने की ठान लेता है तो कोई भी ताकत से नहीं रोक पाती. किसी भी सपने को पूरा करने के लिए शिद्दत के साथ जब कड़ी मेहनत की जरूरत पड़ती है. आपको बताने जा रहे हैं ऐसे ही लड़की की कहानी.

उत्तर प्रदेश के नोएडा से एक ऐसा ही मामला सामने आया है ,पुलिस को जब इस मामले के बारे में पता चली तो पुलिस चौक गई . पुलिस 7 महीने से जिस लड़की की खोज कर रहे थे वही लड़की पुलिस वाली बनके थाने पहुंच गई.

यह मामला उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा का है जहां एक लड़की 7 महीने पहले गायब हो गई. लड़की के घरवालों ने पास के ही एक लड़के पर किडनैपिंग का केस कर दिया क्योंकि उसके घरवालों को पास के ही लड़के पर शक था. घरवालों का कहना था कि लड़का बहला-फुसलाकर उसकी बेटी को भगा ले गया है. केस दर्ज होने के बाद पुलिस लगातार उस लड़की की खोज में जुट गई.

एक दिन वह लड़की खुद ही थाने पहुंच गई और पुलिस वाले को जब अपना परिचय दिया तो पुलिस वाले चौक गए. लड़की ने बताया कि मैं वही लड़की हूं जिसे आप 7 महीने से खोज रहे थे.

लड़की ने अपनी कहानी बताई तो पुलिस वालों ने उसे शाबाशी दिया और साथ ही साथ जिस लड़के के साथ अन्याय हुआ उसके लिए पुलिस वालों ने काफी दुख जाहिर किया.

लड़की ने बताया कि उसके परिवार वाले उसकी शादी कर दिए थे लेकिन वह आगे पढ़ना चाहती थी इसी कारण से वह घर से भाग गई. क्योंकि वह पुलिस में भर्ती होना चाहती थी और वह घर से भागकर दिल्ली पहुंच गए. वहां अपने एक परिचित के घर रहने लगी. दूसरी ओर पुलिस ने शक के पर जिस लड़के के ऊपर केस दर्ज हुआ था उससे लगातार पूछताछ करने लगी.

लड़की ने कहा कि वह अपनी तैयारी से दिल्ली पुलिस में कॉन्स्टेबल का पद हासिल कर ली. अभी मैं दिल्ली पुलिस में कॉन्स्टेबल है लेकिन वह तब तक शादी नहीं करेगी जब तक वह दरोगा नहीं बन जाती. लड़की ने बताया कि वह अपने घरवालों की मर्जी से ही शादी करेगी लेकिन दरोगा बनने के बाद और जब तक वह दरोगा नहीं बन जाती हो घर नहीं जाएगी.

लड़की अपना बयान देखकर वापस दिल्ली चली गई वह अपना ड्यूटी ज्वाइन करना चाहती थी. दनकौर पुलिस ने कहा कि वह इस मामले की जांच करेगा और साथ ही साथ पुलिस ने यह भी कहा कि लड़की अब बालिक है उसे अपने फैसले लेने का अधिकार है.