Homeझारखंडलाह और सब्जियों की खेती कर लखपति बनी खुटी की यह महिला,हर...

लाह और सब्जियों की खेती कर लखपति बनी खुटी की यह महिला,हर महीने कमाती है लाखों रुपए

आजकल महिलाएं किसी भी क्षेत्र में पुरुषों से कम नहीं है और हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही है. झारखंड के सुदूरवर्ती इलाकों में रहने वाली महिलाएं भी आजकल कई तरह के कार्य कर रहे हैं जिससे कि वह आत्मनिर्भर बन रही है.

झारखंड के सुदूरवर्ती ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाएं सखी मंडल के जरिए आजीविका के विविध साधनों से जुड़कर लगातार अपनी आजीविका को मजबूत बना रही है. आपको बता दें कि कहीं दूर इलाकों में रहने वाले आदिवासी महिलाएं आजकल अपना नाम रोशन कर रही है और वहां निर्भर सब्जियों के माध्यम से बन रही हैं.

ऐसी ही एक महिला है खूंटी जिले के मुरहू प्रखंड अंतर्गत रुमुतकेल गांव की ओलिव बादु. ओलिव अपने गांव में लखपति महिला किसान के रूप में जानी जाती है. लाह, तसर और सब्जी आदि की खेती एवं उत्पादन कर ओलिव साल भर में दो लाख रुपये तक की आमदनी कर लेती है.

सखी मंडल से जुड़कर खुली आजीविका की नयी राहें

ओलिव बादु वर्ष 2017 में रोशनी महिला मंडल के जरिए आजीविका मिशन से जुड़ी. समूह से जुड़ने से पहले ओलिव की दुनिया अपने परिवार तक ही सीमित थी. धान की खेती और मजदूरी के जरिए उनके घर का भरण-पोषण बहुत मुश्किल से हो पाता था. कभी-कभी तो पैसों के अभाव में खेती भी नियमित नहीं होती थी, लेकिन समूह से जुड़ने से पहले ओलिव को कम ब्याज पर आसान ऋण का आसरा मिला जिससे उन्होंने सबसे पहले सब्जी की खेती करनी शुरू की.

ओलिव ने पहली बार सब्जी की खेती शुरू की

इस संबंध में महिला किसान ओलिव ने कहा कि पहली बार सब्जी की खेती के लिए तीन हजार का ऋण समूह से लिया था जिससे टमाटर की खेती की शुरू की. फसल से तकरीबन 10 हजार रुपये की आमदनी हुई. फिर खेती के लिए समूह से नियमित ऋण लेने लगे. धान की भी खेती करनी शुरू की. JSLPS की ओर से खेती के लिए कई नयी उपयोगी बातों का भी पता चला जिससे उत्पादन में काफी सुधार आया. अब तो हर फसल से कम से कम 15 से 20 हजार रुपये की आमदनी तो हो ही जाती है.

लाह की खेती ने बनाया लखपति

ओलिव 2019 से लाह की खेती कर रही है और वर्ष में दो बार लाह की कटाई कर उसकी बिक्री करती है. इस साल फरवरी से जुलाई के मध्य ब्रूड (बीहन) लाह का उत्पादन और बिक्री करके ओलिव बादु ने एक लाख रुपये की आमदनी की है और खेती के दूसरे चक्र में भी उन्हें और एक लाख रुपये तक की आमदनी होने की आशा है.

Most Popular