रेल यात्रियों को बड़ा झटका! अब ट्रेन में नहीं मिलेगी ये खास सुविधा

भारत सरकार पिछले वर्षों से ट्रेनों और रेलवे स्टेशनों (Railway Stations) में Wi-Fi उपलब्ध कराने में तेजी ला रही है। भारत के सभी रेलवे स्टेशनों पर वाई-फाई कनेक्टिविटी (Wi-Fi Connectivity) की सुविधा प्रदान करने के बाद, सरकार ने घोषणा की कि वह देश भर में चलने वाली ट्रेनों में मुफ्त वाई-फाई प्रदान करेगी। इस महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट की घोषणा 2019 में पूर्व रेल मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने की थी। उस समय, यह घोषणा की गई थी कि केंद्र साढ़े चार साल में ट्रेनों के भीतर वाई-फाई प्रदान करने की योजना बना रहा है। इसमें कई चुनौतियाँ हैं क्योंकि इसमें टावरों और उपकरणों के लिए निवेश की आवश्यकता होती है, जो ट्रेनों के बाहर और भीतर दोनों जगह फिट किए जाते हैं। इसके लिए विदेशों के निवेशकों की भी जरूरत थी।

ट्रेन में यात्रियों को Wi-Fi सेवा नहीं मिलेगी 

इस घोषणा के दो साल बाद इस प्रोजेक्ट को भारतीय रेलवे ने हटा दिया है या यू कहे की ड्राप कर दिया है। पीटीआई की एक रिपोर्ट के अनुसार, रेलवे ने ट्रेनों में इंटरनेट कनेक्शन प्रदान करने की परियोजना को बंद कर दिया है क्योंकि यह लागत कास्ट-इफेक्टिव नहीं थी। सरकार ने बुधवार को संसद में इसकी पुष्टि की। लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने इस मामले पर जवाब देते हुए कहा कि पायलट प्रोजेक्ट ने तहत सरकार ने हावड़ा राजधानी एक्सप्रेस ट्रेन में सैटेलाइट कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी के जरिए वाई-फाई इंटरनेट की सुविधा मुहैया कराई। पायलट प्रोजेक्ट के दौरान, यह देखा गया कि टेक्नोलॉजी इंटेंसिव कैपिटल के साथ रेकरिंग कास्ट की आवश्यकता होती है, जैसे कि बैंडविड्थ शुल्क, जो इस प्रोजेक्ट को कास्ट-इफेक्टिव नहीं बनाते हैं। साथ ही, ट्रेन में यात्रियों को उपलब्ध कराई गई इंटरनेट बैंडविड्थ अपर्याप्त थी। रेल मंत्री ने कहा कि अभी तक ट्रेनों में वाई-फाई इंटरनेट सेवाओं के लिए उपयुक्त, किफायती तकनीक उपलब्ध नहीं है।

RailTel नेटवर्क

अभी भारतीय रेलवे 6,000 से अधिक रेलवे स्टेशनों पर वाई-फाई इंटरनेट सुविधा दे रही है। यह सेवा रेलटेल नेटवर्क द्वारा प्रदान की जाती है, जो रेल मंत्रालय के तहत संचालित एक पीएसयू है। रेलटेल द्वारा वाई-फाई सेवाएं रेलवायर के तहत प्रदान की गईं, जो इसका ब्रॉडबैंड डिस्ट्रीब्यूशन मॉडल है। इससे पहले, Google का स्टेशन कार्यक्रम 2016 में मुंबई सेंट्रल रेलवे स्टेशन पर शुरू हुआ और 2018 में असम के डिब्रूगढ़ में अपना 400 वां स्टेशन जोड़ा।

इन स्टेशनों पर मिलेगी आपको फ्री Wi-Fi सर्विस

यात्रियों को आंध्र प्रदेश 509, अरुणाचल प्रदेश 3, असम 222, बिहार 384, उत्तर प्रदेश 762, महाराष्ट्र 550, पश्चिम बंगाल 498, राजस्थान 458, तमिलनाडु 418, मध्य प्रदेश 393, कर्नाटक 335, गुजरात 320, ओडिशा 232, झारखंड 217, पंजाब 146, हरियाणा 134, केरल 120, छत्तीसगढ़ 115, तेलंगाना 45, दिल्ली 27, हिमाचल प्रदेश 24, उत्तराखंड 24, जम्मू और कश्मीर 14, गोवा 20, त्रिपुरा 19, यूटी चंडीगढ़ 5, नागालैंड 3, मेघालय, मिजोरम और सिक्किम के 1-1 रेलवे स्टेशन पर मुफ्त में Wi-Fi की सुविधा उठाने का आनंद मिलेगा।

 Wi-Fi सर्विस का कैसे उठाएं फायदा

बता दें अगर किसी भी यात्री को स्टेशन पर Wi-Fi का इस्तेमाल करना है, तो उसे अपने फोन या लेपटॉप के Wi-Fi कनेक्शन पर जाकर नेटवर्क सर्च करना होगा। इसके बाद उन्हें रेलवायर नेटवर्क (Railwire Network) का विकल्प दिखाई देगा, जिसे सलेक्ट करने के बाद आपके फोन पर Railwire का होम पेज खुलेगा। यहां जाकर आपको मोबाइल नंबर डालना होगा और तब आपको एक OTP मिलेगा। ओटीपी डालने के तुरंत बाद आपका डिवाइस Free Wi-Fi की सुविधा का लाभ उठा सकेगा