रांची से पटना ट्रेन से यात्रा करने पर बचेंगे 2 घंटे, जानिए कब से शुरू होगा नया रूट

झारखंड के लोगों के लिए खुशखबरी है. रामगढ-कोडरमा-हज़ारीबाग-रांची वाया बरकाकाना रेल परियोजना में नवनिर्मित रेल लाइन पर मार्च 2022 से रेल गाड़िया दौड़ने लगेंगी. इस लाइन के चालू होने के बाद रांची से पटना की दूरी घट जायेगी. यह यात्रा 13 घंटे की बजाय 11 घंटे में पूरी हो सकेगी, वहीं रांची-मुरी-बरकाकाना तीन घंटे के बजाए मात्र एक घंटे में पूरा होगा. फिलहाल इस रूट पर कोडरमा से बरकाकाना वाया बरकाकाना के बीच रेल कनेक्टिविटी हो चुका है जबकि रांची की ओर से टाटीसिलवे से सांकी तक पैसेंजर ट्रेन चल चुकी है.

सिर्फ सांकी से सिध्वार के बीच 26.6 किलोमीटर का काम बाकी है. प्राकृतिक वादियों-झरनों और तीन सुरंगों के बीच से रांची की यात्रा रोमांच से भरपूर होगी. टनल वन सिधवार 600 मीटर, हेहल 1080 मीटर व् बारीडीह 600 मीटर लंबी है. तीन सुरंगों की कुल लंबाई 2280 मीटर जबकि बारीडीह-खपिया के बीच पहाड़ के बार बार भूस्खलन होने पर विशेषज्ञ के राय पर 1638 मीटर कट एंड कवर(सीमेंट का सुरंग) सुरंग का निर्माण किया जा रहा है. कुल चार सुरंग इस मार्ग में हैं जबकि 46 छोटे-बड़े पुल-पुलिया मार्ग पर बने हैं.

कुल मिलाकर बरकाकाना-रांची रेल रूट से जहाँ कोडरमा-हज़ारीबाग-बरकाकाना से राजधानी रांची की दूरी कम हो जायेगी वहीं इस रूट के खुलने से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा, साथ ही सब्ज़ी उत्पादक किसानों को राजधानी रांची का बड़ा बाजार उपलब्ध हो सकेगा. इससे किसानों की आर्थिक उन्नति होगी. धनबाद रेल मंडल के सीनियर डीसीएम अखिलेश पांडेय ने बताया कि मार्च 2022 तक इसका काम पूरा कर लिया जायेगा. रूट पर तीन सुरंगों का काम पूरा कर लिया गया है जबकि चौथे पर काम तेज़ी से चल रहा है.

Note: तस्वीर काल्पनिक है।