Homeझारखंडरांची के बाद झारखण्ड के इस ज़िला से जल्द उड़ेंगे घेरलू विमान

रांची के बाद झारखण्ड के इस ज़िला से जल्द उड़ेंगे घेरलू विमान

बोकारो एयरपोर्ट से साल के अंत तक विमान सेवा शुरू हो जाएगी। इसके लिए एयरपोर्ट विस्तारिकरण का काम लगभग पूर्ण होने को है। स्लोवाकिया के इंजीनियर्स की टीम ने एयर ट्रैफिक कंट्रोलर को इंस्टॉल कर दिया है। इसके साथ ही एयरपोर्ट के लिए अन्य जरूरी उपकरण लगाने का काम भी अंतिम चरण में है। फिलहाल एयरपोर्ट के अंदर कनेक्टिंग रोड का काम तेजी से जारी है। इसके तैयार होते ही फायर पीट, कुलिंग पीट सहित अन्य स्थानों के लिए कनेक्टिंग रोड से जोड़ दिया जाएगा। लंबे समय के बाद एयरपोर्ट के बाउंड्रीवाल का काम भी संपन्न करा दिया गया है। 36 करोड़ से तैयार बोकारो एयरपोर्ट का 1.67 किलोमीटर रनवे से पूरी तरह से विमान उड़ान भरने के लिए तैयार है। एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के मानकों के अनुसार 72 सीटर प्लेन के लैंडिंग के लिए तैयार किया गया है। इस बाबत एयरपोर्ट मैनेजर प्रियांका ने बताया कि इस साल बोकारो एयरपोर्ट से हवाई सेवा शुरू कर दिया जाएगा। एयरपोर्ट के शेष बचे तकनीकि और कंस्ट्रक्शन कार्य को जल्द से जल्द पूरा कर लिया जाएगा।

बोकारो में एयरपोर्ट से शुरू होगी व्यावसायिक उड़ान

दरअसल पीएम मोदी का सपना है कि देश में हवाई सेवा सुलभ हो। इसी परिप्रेक्ष्य में रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम के तहत सेल के 40 साल पुराने बोकारो हवाई अड्डे को व्यावसायिक उड़ान के लिए तैयार किया जा रहा है। यूं तो बोकारो हवाई अड्डा नवंबर 2019 में ही प्रारंभ होना था। मगर एजेंसियों में समन्वय की कमी से इस साल नवंबर तक यह पूरा हो सकता है। बशर्ते इस काम में लगी एजेंसियां एकजुट होकर कमर कस लें। यहां पैसेंजर लाबी व रनवे बन चुका है। एयर ट्रैफिक कंट्रोल टावर लग गया है व चारदीवारी बन गई है। मगर, हवाई अड्डे को लाइसेंस अभी नहीं मिला है। न इसके बाहर का अतिक्रमण हटा है। एयरपोर्ट के बाहर मांस की दुकानें लगती हैं, जहां उड़ते परिंदे विमानों के लिए खतरा हो सकते हैं। लाइसेंस के लिए आवेदन जमा करने की प्रक्रिया हो रही है। 15 सितंबर तक बोकारो स्टील प्रबंधन आवेदन दे देगा। इसके बाद एयरपोर्ट अथारिटी को हवाई सेवा चालू करनी है।

पैसेंजर लॉबी भी पूरी तरह से तैयार :

बोकारो एयरपोर्ट में यात्रियों की सुविधा के लिए पैसेंजर लॉबी बनकर पूरी तरह तैयार हो चुका है। यात्रियों के लिए एयरपोर्ट में प्रवेश और प्रस्थान के लिए अलग-अलग मार्ग बनाए गए हैं। हवाई यात्रा करने वाले यात्रियों के सामानों की जांच करने के लिए स्कैनर इंस्टॉल करने का काम अंतिम चरण में है। इसके साथ ही एयरपोर्ट की सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता की गई है। पूरे परिसर में सीसीटीवी कैमरा के साथ-साथ मुख्य गेट पर इमेज सेंसर लगाया गया है। इसके अतिरिक्त यात्रियों के बैठने के लिए व्यवस्था कैफेटेरिया के लिए विशेष स्थान बनाए गए है।

एयरपोर्ट अथारिटी को फायर स्टेशन व एप्रोच रोड बनानी है। लाइट का काम भी बाकी है। 72 सीट वाली हवाई सेवा के लिए संचालक से एमओयू भी अभी होना है। एयरपोर्ट के लिए कॢमयों की नियुक्ति होनी है। हवाई अड्डा का संचालन पांच वर्ष बाद सेल को ही करना है। इसलिए अधिकारियों व कॢमयों की टीम बनाकर उसे प्रशिक्षण दिलाना होगा। जिला प्रशासन को अतिक्रमण हटवाना है। सुरक्षा के लिए प्रशिक्षित जवानों को प्रतिनियुक्त करना।

Most Popular