यूएन में पाकिस्तान को करारा जवाब देने वाली स्नेहा दुबे का क्या है झारखंड कनेक्शन

संयुक्त राष्ट्रसंघ में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के संबोधन के बाद भारत की ओर से करारा जवाब दिया गया. राइट टू रिप्लाई के तहत अधिकारी IFS अधिकारी स्नेहा दुबे (IFS Sneha Dubey) ने जिस अंदाज और सधे हुए तेवर में पाकिस्तानी पीएम की बोलती बंद की, वह सुर्खियां बटोर रहा है. भारत की ओर से दुश्मन देश को अंतरराष्ट्रीय मंच पर लताड़ने वाली यह अधिकारी झारखंड से ताल्लुक रखती हैं. स्नेहा दुबे का जन्म प्रदेश की लौहनगरी के रूप में मशहूर जमशेदपुर में हुआ था. उनके पिता यहां नौकरी करते थे. बाद में उनका परिवार गोवा चला गया.

दरअसल, हमेशा की तरह इमरान खान ने भारत पर निशाना साधा था, जिसके बाद दिए गए जवाब में स्नेहा दुबे का वीडियो वायरल है. 2012 बैच की आईएफएस ऑफिसर स्नेहा दुबे ने कहा कि पाकिस्तान (India-Pak Dispute) को भारत के अंदरूनी मामलों में दखल देने की जरूरत नहीं है. अन्तरराष्ट्रीय स्तर सहित इन सब मुद्दों को उठाकर पाकिस्तान क्या साबित करना चाहता है.

स्नेहा ने पाकिस्तान को जवाब देते हुए कहा था कि पाकिस्तान वो देश है जो खुद आतंकवादियों को पालता है और बढ़ाबा देता है. इसके कारण पड़ोसी देशों के साथ पूरे दुनिया को मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. ऐसे सारे आतंकवादी गतिविधि वाले काम पाकिस्तान में ही होते हैं लेकिन पाकिस्तान वर्ल्ड फोरम में आकर खुद को मसीहा साबित करना चाहता है.

स्नेहा दुबे का जमशेदपुर कनेक्शन

बात करें स्नेहा दुबे के जमशेदपुर कनेक्शन की तो स्नेहा दुबे का जन्म झारखंड के शहर जमशेदपुर में हुआ है. उनके पिता जेपी दुबे शहर के केबल टाउन में स्थित केबल कंपनी में इंजीनियर के पद पर काम करते थे. वर्ष 2000 में कंपनी के बंद होने के बाद पूरा परिवार गोआ चला गया. वहां उनके पिता को फिनलोलेक्स केबल कंपनी में काम मिल गया वहीं स्नेहा दुबे की प्रारंभिक शिक्षा गोआ और पुणे से है. स्नेहा 2011 से ही सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रही थीं. 2012 में उन्हें सफलता मिली. 2014 में स्नेहा दुबे की भारतीय दूतावास मेड्रिड में नियुक्ति हुई. कुछ साल बाद उनकी नियुक्ति संयुक्त राष्ट्र महासभा मे प्रथम सचिव के रूप में हुई. स्नेहा का जवाब वाला वीडियो ट्विटर सहित अन्य प्लेटफार्म पर तेजी से ट्रेंड करने लगा है.