Homeबिहारमेडिकल की पढ़ाई के लिए बाहर नहीं जाएंगे छात्र , इस जिला...

मेडिकल की पढ़ाई के लिए बाहर नहीं जाएंगे छात्र , इस जिला में बनकर तैयार हो रहा 60 बड़ों वाला नर्शिंग मडिकल कॉलेज , जानिये कब तक शुरू होगा कॉलेज

बिहार में शिक्षा व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए कई मेडिकल कॉलेजों का निर्माण किया जा रहा है। बीते महीने मुंगेर में भी 650 बेडों वाला मेडिकल कॉलेज का निर्माण कार्य शुरू होगा ऐसे में बिहार को एक और नर्सिंग कॉलेज का सौगात जल्द ही मिलने जा रहा है। बता देती है नर्सिंग कॉलेज औरंगाबाद के सदर अस्पताल चिकित्सीय आवासीय कैंपस में इसका निर्माण कार्य शुरू हो गया है माना जा रहा है कि इसका निर्माण कार्य अगले 15 महीनों के अंदर पूरा कर लिया जाएगा।

जीएनएम के 60 सीटों पर दाखिला होगा
मिली जानकारी के मुताबिक मार्च 2023 तक काम पूरा हो जाएगा। इसी साल से पढ़ाई भी शुरू हो जाएगी। जीएनएम के 60 सीटों पर दाखिला होगा। कॉलेज में जीएनएम के साथ ही पैरामेडिकल की भी पढ़ाई होगी। यहां के छात्र-छात्राओं को जीएनएम और पैरामेडिकल के पढ़ाई का फायदा मिलेगा। इस नर्सिंग कॉलेज के निर्माण के लिए केंद्र सरकार की ओर से 20 करोड़ रुपये की स्वीकृति दी गई है। औरंगाबाद जिले के विद्यार्थियों को नर्सिंग कॉलेज का मिलेगा। बता दे यहां के छात्र-छात्राएं को पारा मेडिकल और जीएनएम की पढ़ाई के लिए दूसरे जगह भटकना पड़ता था। लेकिन अब उन्हें अपनी पढ़ाई को पूरे करने के लिए कहीं जाने की जरूरत नहीं होगी।

यह नर्सिंग कॉलेज 15 महीनों के भीतर तैयार हो जाएगा
तीन तल्ला जीएनएम कॉलेज निर्माण के साथ ही हॉस्टल का भी काम चल रहा है। छात्र-छात्राएं यहीं रह कर पढ़ाई कर सकेंगे। उन्हें लंबी यात्रा से मुक्ति मिलेगी। जिले के विद्यार्थियों का कॉलेज निर्माण से भविष्य संवरेगा। परिजनों का लोड हल्का होगा। सबसे ज्यादा लाभ सदर अस्पताल के रोगियों को मिलेगा। पढ़ाई के साथ ही मरीजों की सेवा करेंगे। औरंगाबाद के डीएचएस डा. कुमार मनोज ने बताया कि जीएनएम कॉलेज की इमारत निर्माण का काम शुरू हो गया है। कार्य 15 महीने में पूर्ण करना है। साल 2023 से 60 सीटों पर जीएनएम का एडमिशन होगा। पैरामेडिकल के लिए अभी सीट तय नहीं हुआ है। जिले के विद्यार्थियों को कॉलेज निर्माण का लाभ मिलेगा।

Most Popular