महगांई की मार 15 दिनों में आलू-प्याज के बढ़ें इतने दाम, जानिए क्या है नया भाव

बिहार में मध्यमवर्गीय लोगों के लिए एक बार फिर से महगांई की मार पड़ी है. राज्य में आलू की थाेक कीमत 15 दिनाें में छह सौ से 1500 रुपए प्रति क्विंटल की बढ़ोत्तरी हुई है. पुराने आलू के स्टॉक खत्म होने और नई फसल ना आने की वजह से उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल से आलू नहीं आ रहे हैं. दो सप्ताह से पहले इसका दाम 1200 रुपए क्विंटल थाेक था और आलू का रेट शुक्रवार को 1800 से 2700 रुपए क्विंटल तक था. ऐसे में अगर आने वाले समय में नए आलू नहीं आते हैं तो इसकी कीमत में और ज्यादा बढ़ोत्तरी हो सकती हैं.

सूबे के डिप्टी डायरेक्टर (आलू) पवन कुमार ने उद्यान अधिकारियाें काे स्थानीय थाेक विक्रेताओं से बात की और स्थानीय थोक विक्रेता से संपर्क कर पटना और आसपास के क्षेत्राें में बुआई के लिए आलू उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है. इसके अलावा उत्तर बिहार के साथ पटना और कई जिलाें में आलू बुआई पर भी संकट बना हुआ है.

इसको लेकर थोक आलू व्यवसाई राहुल कुमार ने इसको लेकर बात करते हुए कहा, राजधानी पटना में अभी उजले आलू की कीमत 1800 से 2000 रुपए प्रति क्विंटल, समस्तीपुर वाले आलू की कीमत दो हजार से 2200 रुपए प्रति क्विंटल और कानपुरी आलू की कीमत 2600 से 2700 रुपए प्रति क्विंटल हैं.

बता दें कि हर साल नवंबर शुरू में ही उत्तर प्रदेश और पंजाब से नए आलू आ जाते थे. जिस वजह से पुराने आलू की कीमत कम हो जाती थी. इस साल व्यापारियों और किसानों ने इसी वजह से पुराना स्टाॅक पहले ही निकाल दिया है. ऐसे में आने वाले समय में आलू के दाम बढ़ सकते हैं.