बेतिया में 5 साल बाद जिंदा वापस लौटा शख्स। ससुराल वालों पर चल रहा है हत्या का केस

बिहार के बेतिया में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है जहां पर एक मृत समझा जा रहा व्यक्ति 5 साल बाद जिंदा वापस लौट आया। सबसे अहम बात यह है कि उसकी हत्या के मामले में उसके ससुराल वालों पर केस चल रहा है वह फिलहाल पटना हाई कोर्ट की तरफ से मिली बेल पर वे लोग बाहर है। व्यक्ति का बयान दर्ज किया जा रहा है और पुलिस के अनुसार आगे की कार्रवाई की जाएगी।

विधवा बनकर जी रही थी पत्नी।

पूरा मामला बेतिया के साठी थाना क्षेत्र का है। साठी के कटहरी गांव निवासी विकास कुमार ने अपने भाई राम बहादुर राव की हत्या का मामला 2016 में बेतिया कोर्ट में दर्ज कराया था। विकास कुमार ने बताया कि 2015 में उनका एक्सीडेंट हुआ था। उसी दौरान गुजरात में रहने वाला उनका भाई राम बहादुर राव उन्हें देखने साठी आया था। उसके बाद वापस चला गया। बाद में जब वह अपने भाई की ससुराल पहुंचे तो उसे वहां नहीं देखा। उनकी पत्नी विधवा स्थिति में मिली। उन्होंने जांच पड़ताल की तो भाई का कोई अता-पता नहीं चला। ससुराल वाले भी सही-सही कुछ बता नहीं पा रहे थे। शक हुआ कि भाई की हत्या कर दी गई है।

वापस लौटे व्यक्ति ने बताई पूरी कहानी।

पांच साल बाद लौटे राम बहादुर राव ने बताया कि वह गुजरात में एक धागा बनाने वाली कम्पनी में काम करता था और कम्पनी से घर लौटते वक्त उसका एक्सीडेंट हो गया, जिसमें वह बुरी तरह घायल हो गया और कोमा में चला गया था। इससे उसकी याददाश्त भी चली गई थी। काफी दिनों तक अस्पताल में रहने के बाद जब राम बहादुर राव की याददाश्त वापस आई तो उसने अपने परिवार को खोजने की बहुत कोशिश की, लेकिन कोई नहीं मिला। इस बीच फरवरी 2021 में फेसबुक के माध्यम से अपने परिजनों को खोजना शुरू किया, तभी फेसबुक पर उसके बेटे आकाश सिंह का नम्बर मिला, जिस नम्बर पर राम बहादुर राव ने अपने बेटे से बात की और पूरी कहानी बताई।

साठी थानाध्यक्ष उदय कुमार को सारी कहानी बताई गई। बहरहाल अपहरण और हत्या के इस मामले में नया मोड़ आने के बाद पुलिस इस मामले का नए सिरे से अनुसंधान करने में जुट गई है।