बिहार से दिल्ली का सफर मात्र इतने घंटो में होगा पुरा, इन जिलों से होकर बन रहा फोरलेन

बक्‍सर-आरा राष्ट्रीय राजमार्ग-84 पर बक्सर से कोइलवर के बीच फोरलेन सड़क निर्माण का काम अगले साल मार्च तक पूरा हो जाएगा। निर्माण कार्य इसी साल पूरा होना था, लेकिन कोरोना की दूसरी लहर में काम प्रभावित होने से यह देरी हुई। बक्सर से कोईलवर पुल के बीच लगभग 92 किलोमीटर की दूरी में अब लगभग 11 किलोमीटर ही सड़क की ढलाई रह गई है। कुछ जगहों पर पुलिया का निर्माण अभी पूरा नहीं हुआ है, जिसकी वजह से निर्माण कार्य को पूरा करने की अवधि मार्च तक बढ़ाई गई है। तय समय पर काम पूरा करने के लिए रात में भी कहीं-कहीं काम हो रहा है। बक्सर से कोईलवर तक सड़क निर्माण की एजेंसी पीएनसी कम्पनी है।

बक्सर से कोइलवर तक सड़क निर्माण 15 सौ सात करोड़ की लागत से हो रहा है। वहीं, रास्ते में पडऩे वाले पुल-पुलिया और गंगा नदी में बक्सर से बलिया के बीच पुल का निर्माण सिंगला कंपनी करा रही है, जहां गंगा नदी में पुल बनाने का काम भी तेजी से चल रहा है। सड़क निर्माण कम्पनी का कहना है कि जिस जमीन पर सड़क का निर्माण बचा हुआ है, उस जमीन पर मिट्टी भराई भी करनी है। फिलहाल उस जमीन पर धान की फसल लगी हुई और फसल कटते ही उस पर काम शुरू कर दिया जाएगा। गंगा नदी में चल रहे पुल निर्माण का काम अगले साल जून महीने तक पूरा होने की संभावना है। इसके बाद आरा और बक्सर को फोरलेन के रास्ते लखनऊ-गाजीपुर एक्सप्रेस-वे तक की कनेक्टिविटी मिल जाएगी और अयोध्या, लखनऊ, आगरा और दिल्ली जाना आसान हो जाएगा।

सड़क के बीच में ग्रीन एरिया

यह फोरलेन पटना-बक्सर फोरलेन परियोजना का हिस्सा है। पटना में बिहटा तक भूमि अधिग्रहण में पेंच के कारण अब वहां नए सिरे से बिहटा के बाद एलिवेटेड रोड को मंजूरी दी गई है और जल्द काम शुरू होने वाला है। तबतक बक्सर से कोइलवर तक बेहद खूबसूरत सड़क पर लोग फर्राटा भर सकेंगे। सड़क के बीच में दो डिवाइडर बनाया जा रहा है, जिसके बीच में ग्रीन एरिया होगा और खूबसूरत पौधे हरियाली का अहसास कराएंगे।

बक्सर से कोईलवर के बीच होगा दो टोल प्लाजा

बक्सर से कोईलवर तक कि दूरी तय करने में दो टोल प्लाजा होगें, जहां से गुजरने पर टोल शुल्क देना होगा। शुल्क कितना होगा यह अभी तय नहीं है, लेकिन टोल-प्लाजा फास्टैग तकनीक से लैस रहेंगे। एक टोल प्लाजा बक्सर में दलसागर के पास और दूसरा कोईलवर से आरा के बीच बनेगा। टोल प्लाजा का भी निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है। परियोजना प्रबंधक एम चीनी कृष्णा ने बताया कि अब मात्र 11 किलोमीटर सड़क के चौड़ीकरण का काम बाकी है, जो मार्च 2022 तक चौड़ीकरण का पूरा हो जाएगा।