बिहार वासियों को पटना में मिलेगा एक और बस स्टैंड का सौगात, जानिए कहाॅं बनेगा दूसरा बस स्टैंड

पटना को जल्‍द ही एक और बड़ा बस स्‍टैंड मिलने वाला है। इसके बनने के साथ ही पटना में लंबी दूरी की बसों के लिए तीन बस स्‍टैंड हो जाएंगे। हाल के दिनों में पटना-गया बाईपास रोड में जीरो माइल, रामचक बैरिया के पास पाटलिपुत्र अंतरराज्यीय बस स्टैंड को शुरू किया गया है। इस बस स्‍टैंड में अब एक साथ 700 से अधिक बसें खड़ी हो सकेंगी। छोटे पड़ रहे बस स्टैंड को विस्तार देने के लिए सरकार की ओर से 17 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया जाएगा। इसके बाद पूरे बस पड़ाव को एक ही बाउंड्री के अंदर कर प्लेटफार्म बनाने का काम शुरू किया जाएगा। आपको बता दें कि मीठापुर बस स्‍टैंड को पूरी तरह बंद करते हुए इसको नए बस पड़ाव परिसर में शिफ्ट कर दिया गया है। इसके अलावा राज्‍य पथ परिवहन निगम की ओर से लंबी दूरी की कुछ बसें बांकीपुर बस पड़ाव से खुलती हैं।

एम्‍स के पास बनाया जाएगा दूसरा बस स्‍टैंड

बुडको की ओर से वर्तमान आइएसबीटी स्टैंड के अंदर सारी सुविधाएं शीघ्र चालू करने का आश्वासन दिया गया है। नवनिर्मित पाटलिपुत्र बस स्टैंड के लोड को कम करने के लिए प्रशासन की ओर से दूसरे बस स्टैंड को बनाने की कवायद भी शुरू कर दी गई है। अधिकारियों ने एम्स के पास ही दूसरा बस स्टैंड बनाने की सहमति दे दी है। जमीन अधिग्रहण का काम अंतिम चरणों में है।

पाटलिपुत्र आइएसबीटी में एक साथ खड़ी हो सकेंगी 700 बसें पटना में एक और बस स्टैंड बनाने की योजना एम्स के पास प्रस्तावित है पटना का नया बस स्टैंड सासाराम, भभुआ, डेहरी, औरंगाबाद आदि शहरों के लिए मिलेंगी बसें जमीन अधिग्रहण की तैयारी में जुटा जिला प्रशासन

दूसरा स्टैंड बन जाने के बाद यहां से औरंगाबाद, सासाराम, विक्रमगंज, बक्सर, भभुआ आरा, पालीगंज आदि जगहों के लिए बसें खुलने लगेंगी। इसके कारण पाटलिपुत्र बस स्टैंड का लोड कम हो जाएगा। पाटलिपुत्र बस पड़ाव से प्रतिदिन 2000 से अधिक बसों का परिचालन होता है। इस बस स्टैंड के बन जाने से लगभग 400 बसों का परिचालन का लोड कम हो जाएगा। इसके बाद आइएसबीटी से राज्य पथ परिवहन निगम की बसें भी खुलने लगेंगी। यहां से दिल्ली, वाराणसी, कोलकाता, गोरखपुर, लखनऊ, सिलीगुड़ी, जयपुर, सूरत, अहमदाबाद आदि शहरों के लिए बसों का परिचालन आसान हो जाएगा।

Note: तस्वीर काल्पनिक है।