Homeबिहारबिहार में 3500 करोड़ के लागत से इन जिलों के बीच बनेगा...

बिहार में 3500 करोड़ के लागत से इन जिलों के बीच बनेगा हाइवे, 6 घंटे का सफर हो जाएगा ढाई घंटे में होगी पूरा

सासाराम-आरा से पटना आने-जाने वालों के लिए अच्छी खबर है। अभी सासाराम से पटना के सफर में पांच से छह घंटे लगते हैं, लेकिन अगले कुछ सालों में यह दूरी महज ढाई घंटे की रह जाएगी। अगर सब कुछ सही रहा तो नए साल 2022 के अंत तक पटना से आरा होते हुए सासाराम जाने के लिए फोरलेन सड़क का निर्माण शुरू हो जाएगा। इसकी प्रक्रिया तेज हो गई है। भोजपुर जिले में जमीन अधिग्रहण की प्रारंभिक कार्रवाई पूरी कर ली गई है। पंचायत चुनाव के बाद यानी 31 दिसंबर तक तैयार रिपोर्ट को एनएचएआइ (NHAI) के पटना कार्यालय भेज दी जाएगी। फोरलेन के लिए 40 गांवों की कुछ-कुछ जमीन ली जाएगी। पीरो, तरारी, गड़हनी, चरपोखरी एवं उदवंतनगर अंचलाधिकारी ने खाता, खेसरा व रकबा की विस्तृत रिपोर्ट तैयार कर ली है। वहीं, जमीन की प्रकृति की रिपोर्ट भू-अर्जन विभाग ने तैयार की है।

पटना से आरा होते हुए सासाराम जाने वाली यह सड़क छह व चार लेन की होगी। पटना से आरा तक यह सड़क छह लेन होगी तो आरा से सासाराम तक सड़क चार लेन की होगी। पटना जिले में यह सदीसोपुर-नौबतपुर के बीच से यह शुरू होगी। इसके बाद यह अरवल होते हुए सोन नदी पार कर भोजपुर के सहार में पहुंचेगी। सोन नदी पार करने के क्रम में एक छह लेन का पुल भी बनेगा। सहार से यह सड़क बागड़-गड़हनी मौजूदा सड़क से गुजरेगी। इसके बाद यह पीरो, हसन बाजार, गड़हनी, विक्रमगंज, नोखा, संझौली होते हुए सासाराम से आगे सुअरा में जाकर एनएच दो यानी वाराणसी जाने वाली सड़क से जुड़ेगी। प्रस्तावित नए राजमार्ग में पटना से आरा तक सिक्स लेन और आरा से सासाराम फोरलेन सड़क होगी। राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के एक अधिकारी ने बताया कि 130 किमी लंबे छह एवं चार लेन के निर्माण पर 3500 करोड़ रुपये खर्च होंगे।

विभाग के अनुसार सड़क निर्माण के लिए 40 गांवों की 164.747 हेक्टेयर जमीन ली जाएगी। भाेजपुर जिले में फोर लेन सड़क तरारी, उदवतंनगर से चांदी होकर गुजरेगी। भू-अर्जन विभाग के अनुसार अभी औपबंधिक रिपोर्ट बनी है। यह सड़क आरा से सासाराम जाने वाली रेलवे लाइन के पूर्व दिशा से होकर जाएगी। इसकी स्वीकृति मिलने के बाद इसे भूमि अधिग्रहण संबंधित गजट में प्रकाशित किया जाएगा। इसके बाद रैयत के नाम वाली थ्री बी रिपोर्ट तैयार की जाएगी। सबसे अंत में मुआवजा देने के लिए थ्री सी रिपोर्ट तैयार की जाती है। प्रस्तावित सड़क के बन जाने से आरा को जाम से निजात मिलेगी।

यह आरा शहर के बाहर से गुजरेगी। इससे जिले के दक्षिणी हिस्से की ओर से पटना जाने के लिए वाहन बिना आरा शहर से गुजरे ही पटना की ओर चले जाएंगे। इससे आरा शहर पर ट्रैफिक का लोड कम हो जायेगा।

Note : तस्वीर काल्पनिक है।

Most Popular