बिहार को फूड प्रोसेसिंग का हब बनाने की तैयारी। सरकार के पास आए ढेरों आवेदन

बिहार धीरे-धीरे ही सही पर औद्योगिक क्षेत्र में विकास की ओर अपना कदम बढ़ाने लगा है। बिहार सरकार बिहार का फूड प्रोसेसिंग का हम बनाना चाहती है। इसके लिए प्रक्रिया शुरू कर दी गई है सैकड़ों छोटे निवेशकों ने आवेदन किया है सरकार के पास लगभग 275 से अधिक आवेदन आए हैं। से ज्यादातर आवेदन एथेनॉल का यूनिट लगाने के लिए आए हैं। कुछ निवेशक अन्य खाद्य पदार्थों की यूनिट जाना चाहते हैं मखाना, लीची, मैंगो जेली और फ्रूट जूस शामिल है।

माना जा रहा है कि बिहार में फूड प्रोसेसिंग यूनिट जल्द ही बड़े रूप में उभर कर आएगा। इतने सारे आवेदनों से सरकार काफी खुश है और इस दिशा में बहुत तेजी से काम चल रहा है। सर ने कहा है कि नीतीश कुमार जी की नई औद्योगिक नीतियों के कारण निवेशक बिहार में दिलचस्पी दिखा रहे हैं। जितने आवेदन आए हैं अगर सरकार सबको इजाजत देती है तो लगभग बिहार में ₹32000 का निवेश हो पाएगा।

बिहार सरकार में उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने कहा है कि बिहार मुझे लोगों की बहुत संभावना है। यहां पर सस्ता कच्चा माल और आसानी से मानव बल उपलब्ध है। नीतीश कुमार सरकार 2025 तक चलेगी। इससे निवेशकों में विश्वास बैठा है। हम लगातार पूरे देश में घूम कर अलग अलग मेगा फूड पार्क का जायजा ले रहे हैं। गौरतलब हो कि कल संवाद हुसैन ने यूपी के बाराबंकी स्थित मेगा फूड पार्क का जायजा लिया।

हालांकि सरकार के दावे तो कई हैं लेकिन अभी भी बिहार में कोई बड़ा निवेशक निवेश करने की दिलचस्पी नहीं दिखा रहा है केवल छोटे निवेशक ही आ रहे हैं।