बिहार के रेल यात्री परेशान : टिकट बुक करते समय गलत टिक लगाने से देना पड़ रहा जुर्माना, जाने क्या है पूरा मामला

स्पेशल बनकर चल रहीं सवारी गाड़ियों के टिकट इंटरनेट से बुक कराते समय सावधान रहें। गलती से भी आपने विकल्प चुनते समय स्पेशल की जगह नियमित गाड़ी पर टिक कर 50 की जगह 25 रुपये का टिकट ले लिया तो यात्रा के दौरान 250 रुपये जुर्माना भरना पड़ सकता है। यह मामला सामने आ रहा है विशेषकर मोकामा और पटना के बीच। कई यात्री 25 रुपये का टिकट लेकर यात्रा करते मिले हैं, जिनसे जुर्माना वसूला गया है।

विदित हो कि कोरोना काल से पहले मोकामा से पटना के बीच सवारी गाड़ी का किराया 25 रुपये था। संक्रमण के बाद स्पेशल ट्रेनें शुरू हुईं तो स्पेशल किराया भी वसूला जाने लगा। इस बीच, रेलवे की ओर से दो-तीन नियमित सवारी गाड़ियों के परिचालन का भी निर्णय लिया गया। इन नियमित ट्रेनों में यात्रा करने के लिए कोरोना संक्रमण के पूर्व का किराया ही तय है। जाने-अनजाने लोग नियमित का टिकट लेकर स्पेशल में सवार हो जा रहे हैं।

यात्री असमंजस में

यात्रियों की मानें तो मोकामा से पटना जंक्शन के लिए बुकिंग काउंटर से टिकट लेने पर 50 रुपये देना पड़ा। दूसरे दिन जब मोकामा से पटना आने के लिए इंटरनेट से टिकट लिए तो 25 रुपये ही देने पड़े। सवारी गाडिय़ों का दो तरह का किराया लिए जाने से आम यात्रियों में उहापोह की स्थिति बनी हुई है।

नियमित सवारी गाड़ी का किराया स्पेशल से आधा

पूर्व मध्य रेल के मुख्य जन संपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि स्पेशल ट्रेनों का किराया चाहे बुङ्क्षकग काउंटर से टिकट लें या इंटरनेट से, एक ही है। मोकामा से पटना के लिए स्पेशल व नियमित दोनों तरह की सवारी गाडिय़ां चलती हैं। नियमित सवारी गाड़ी का किराया स्पेशल से आधा है। बुकिंग क्लर्क को पता होता है कि अभी नियमित ट्रेन जाने वाली है या स्पेशल। नियमित ट्रेन न होने से यात्रियों को स्पेशल का ही टिकट दिया जाता है।

यात्री को मिलता है नियमित और स्पेशल का विकल्प

रही बात इंटरनेट टिकट की तो इसे बुक करते समय यात्री को नियमित अथवा स्पेशल का विकल्प दिया जाता है। यात्री अगर जान-बूझकर नियमित ट्रेन का टिकट बुक कर स्पेशल ट्रेन में यात्रा करते हैं तो स्टेशन अथवा टिकट जांच के दौरान उनसे जुर्माना वसूला जाता है।