बिहार के दरभंगा एयरपोर्ट पर बनेगा टर्मिनल, किसानों को होगा फ़ायदा

पहाड़ी राज्यों और आदिवासी बहुल क्षेत्रों के किसानों के हित में केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने ‘कृषि उड़ान 2.0 स्कीम’ की शुरुआत की है. सिविल एविएशन मिनिस्टर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बुधवार को इस योजना की शुरुआत की. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी की सरकार का लक्ष्य किसानों की आय को दोगुना करना है. किसान की आय दोगुना करने का यह मतलब नहीं है कि बाजार में उत्पाद की कीमतें बढ़ जायें.

श्री सिंधिया ने कहा कि किसानों के उत्पाद को एक जगह से दूसरी जगह जल्द से जल्द पहुंचाने की भी व्यवस्था कर रही है, ताकि कृषि उत्पाद नष्ट न हों. सरकार ने कृषि उड़ान 2.0 की शुरुआत की है, ताकि जल्द नष्ट होने वाले सामानों को कम समय में एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाया जा सके. इससे सामान की बर्बादी भी कम होगी और ताजा सामान बेचकर किसान ज्यादा मुनाफा भी कमा सकेगा.

उन्होंने कहा कि जो सामान पहले एक दिन या दो दिन में एक राज्य से दूसरे राज्य में पहुंचता है, अब कुछ घंटों में पहुंच जायेगा. इससे उपभोक्ता और किसान दोनों लाभान्वित होंगे. सिविल एविएशन मिनिस्टर ने यह भी कहा कि कृषि उड़ान 2.0 योजना की शुरुआत के बाद सुदूर क्षेत्रों में सामानों को जल्द से जल्द पहुंचाने में भी मदद मिलेगी.

श्री सिंधिया ने कहा है कि 53 एयरपोर्ट से किसानों के सामान की आवाजाही शुरू हो जायेगी. कहा कि कृषि उड़ान 2.0 योजना की शुरुआत होने से कृषि उत्पादों एवं खाद्यान्न की बर्बादी कम होगी. उन्होंने कहा कि कृषि उड़ान योजना 2.0 के तहत घरेलू एयरलाइंस के लिए नागर विमानन मंत्रालय लैंडिंग, पार्किंग, टर्मिनल नेविगेशन और लैंडिंग चार्ज में पूरी छूट देगा.

कई टर्मिनल बनाये जायेंगे

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि लेह, श्रीनगर, नागपुर, नासिक, रांची, बागडोगरा, रायपुर और गुवाहाटी में मंत्रालय की ओर से टर्मिनल बनाये जायेंगे. उन्होंने कहा कि मंत्रालय ने एयरपोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया की ओर से संचालित 53 एयरपोर्ट का चयन किया है, जो कृषि उड़ान 2.0 के तहत कवर किये जायेंगे.