बिहार के ट्रेनों का परिचालन पुराने नंबर से होगा, नहीं देना होगा अब अधिक भाड़ा

रेलवे ने वर्तमान में चलायी जा रही पूर्व मध्य रेल की नियमित मेल और एक्सप्रेस एवं होली-डे स्पेशल ट्रेनों के लिए स्पेशल ट्रेन का दर्जा तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दिया है। वर्तमान में जिन ट्रेनों के सामान्य श्रेणी में आरक्षण की व्यवस्था है, वह पहले की तरह जारी रहेगी, साथ ही पूर्व में जो कोच अनारक्षित घोषित किए गए थे, वह अनारक्षित बने रहेंगे। वैसे यात्री जो अपना यात्रा टिकट पूर्व में ही आरक्षित करवा चुके हैं, वैसे यात्रियों से ना ही किराया का अंतर लिया जाएगा और ना ही किसी प्रकार की धन वापसी होगी। सभी मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों का कोच संयोजन, ठहराव में किसी प्रकार का बदलाव नहीं किया गया है।

इस संबंध में पूर्व मध्य रेल के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने प्रेस रिलीज जारी कर बताया कि कोविड-19 के कारण रेल यात्रियों के स्वास्थ्य हित को देखते हुए रेलवे ने नियमित ट्रेनों को स्पेशल ट्रेन के रूप में परिचालित करने का निर्णय लिया था। परंतु अब सभी मेल और एक्सप्रेस ट्रेन अपने पुराने नंबर से चलाई जाएंगी। अपने प्रारंभिक स्टेशन से प्रस्थान करने वाली पूर्व मध्य रेल की 148 मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन पुराने नंबर से किया जाएगा। उदाहरण स्वरूप राजेन्द्र नगर टर्मिनल एवं नई दिल्ली के मध्य चलायी जाने वाली 02393 स्पेशल ट्रेन 02393 के बदले अपने पुराने नंबर 12393 नंबर से, 03388 धनबाद-हावड़ा स्पेशल अपने पुराने नंबर 22388 से, 03259 पटना-छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस स्पेशल अब अपने पुराने नंबर 82355 से चलेगी। इसी तरह अन्य ट्रेनों का भी परिचालन उनके पुराने नंबर से ही होगा।

कोरोना के दौरान जून 2020 से नियमित ट्रेनों को तत्काल स्थगित करते हुए स्पेशल ट्रेनों के रूप में चलाया जाने लगा। इससे ट्रेनों में मिलने वाली अधिकांश रियायत खत्म कर दी गई। हालांकि, रेलवे ने अबतक रियायतों को लेकर अपना रुख स्पष्ट नहीं किया है। पूर्व मध्य रेलवे के विभिन्न स्टेशनों से 290 स्पेशल ट्रेनें गुजर रही थीं। इसमें से 72 ट्रेनों में यात्रा करने पर यात्रियों से अधिक किराया वसूल किया जाता था। ट्रेनों में पांच सौ किमी की यात्रा पर अधिक किराया देना पड़ता था। अधिक दूरी की यात्रा पर नियमित ट्रेनों की तरह किराया वसूल किया गया। अब ये ट्रेनें फिर से नियमित कर दी जाएंगी। पूर्व की भांति सामान्य किराया हो जाएगा।