बिहार के कई जिलों में अगले दो दिनों तक होगी बारिश, जानिए अपने जिला का हाल

मौसम विभाग ने पटना सहित बिहार के 19 जिलों में एक-दो स्थानों पर गरज के साथ हल्की बारिश का पूर्वानुमान जताया है। पूर्वानुमान है कि यह बारिश दो दिनों तक होगी। दक्षिण बिहार के 19 जिलों के अलावा राज्य के अन्य जिलों में बारिश नहीं होगी। इस कारण से पूर्वी पश्चिमी चंपारण के साथ 19 जिलों में मौसम गर्म रहेगा। इस दौरान तापमान और बढ़ने का अनुमान है। शुक्रवार की रात मौसम काफी गर्म रहा। दिन में कड़ी धूप के कारण रात में उमस भरी गर्मी से लोग परेशान हुए।

कहां-कहां बारिश का पूर्वानुमान

मौसम विभाग के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में बन रहे सिस्टम के प्रभाव और मौसमी कारकों से अगले दो दिनों तक दक्षिण बिहार के बक्सर, भोजपुर, रोहतास, भभुआ, औरंगाबाद, अरवल, पटना, गया, नालंदा, शेखपुरा, नवादा, बेगूसराय, लखीसराय, जहानाबाद, भागलपुर, बांका, जमुई, मुंगेर और खगड़िया में एक या दो स्थानों हल्की बारिश की संभावना है जबकि उत्तर बिहार के पश्चिमी चंपारण, सीवान, सारण, पूर्वी चंपारण, गोपालगंज, सीतामढ़ी, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, दरभंगा, वैशाली, शिवहर, समस्तीपुर, सुपौल, अररिया, किशनगंज, मधेपुरा, सहरसा, पूर्णिया और कटिहार मौसम शुष्क रहेगा। इससे इन इलाकों में लोग गर्मी से परेशान रहेंगे।

बिहार में पारा 38 के पार

मानसून की वापसी के बाद से पूरा बिहार लगातार गर्मी से जूझ रहा है। कभी दक्षिण बिहार तो कभी उत्तर बिहार में गर्मी से लोग हाल बेहाल हो रहे हैं। शुक्रवार को तो मानसून वापसी के बाद सबसे गर्म दिन रहा है। माधवपुर में अधिकतम तापमान 38.3 डिग्री सेल्सियस के पार चला गया। पटना सहित बिहार के सभी 38 जिलों में आसमान में बादल के बाद भी गर्मी से हालत खराब रही। शुक्रवार की रात पटना में काफी गर्मी रही। उमस वाली गर्मी के कारण लोग परेशान हुए। मौसम विभाग का कहना है कि आने वाले दिनों में अभी कोई राहत की उम्मीद नहीं है।

ऐसे बन रहा बारिश का सिस्टम

मौसम विभाग का कहना है कि उत्तर पश्चिम एवं समीपवर्ती पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी में बने हुए कम दबाव का क्षेत्र अब पश्चिम मध्य एवं समीपवर्ती उत्तर पश्चिम बंगाल की खाड़ी में स्थित हो गया है। यह एक चक्रवाती परिसंचरण से भी जुड़ा हुआ है, जो समुद्र तल से 5.8 किलो मीटर तक फैला है। इसका असर बिहार के कुछ जिलों में देखने को मिल सकता है। मौसम विभाग का कहना है कि बिहार के दक्षिण भाग में इसका अधिक असर होगा जबकि उत्तर बिहार में मौसम इस सिस्टम से प्रभावित नहीं होगा।