Homeबिहारबिहार के इस ज़िला में बाईपास निर्माण को शुरू हुआ जमीन सर्वे,...

बिहार के इस ज़िला में बाईपास निर्माण को शुरू हुआ जमीन सर्वे, जानिए पूरा रूट

अंबा एनएच-139 से देव, मदनपुर होते हुए गया तक बनने वाली एसएच-101 के निर्माण की प्रशासनिक स्वीकृति मिलने के बाद देव में बनने वाली बाईपास सड़क निर्माण को लेकर जमीन का सर्वे शुरू हो गया है। यह सड़क आमस से जयनगर तक बनने वाली भारत माला सड़क परियोजना में जुड़ेगी। डीएम के द्वारा बैठक में दिए गए निर्देश के बाद देव के सीओ आशुतोष कुमार, राजस्व कर्मचारी, अमीन समेत अन्य ने जमीन का सर्वे शुरू किया है। बिहार राज्य पथ विकास निगम के द्वारा जो जमीन को चिह्नित कर खाता व प्लाट जिला प्रशासन को उपलब्ध कराया गया है। देव के दक्षिण सुदीबिगहा आहर के बीच से लिया गया है।

सर्वे टीम ने आहर के बीच से ली गई जमीन को देखा। इस दौरान ग्रामीणों ने कहा कि आहर में बाईपास सड़क बनाने का क्या औचित्य है। इससे आहर का वजूद समाप्त हो जाएगा और सिंचाई की सुविधा भी समाप्त हो जाएगी। हालांकि सर्वे टीम के अधिकारी भी आहर के बीच में बाईपास सड़क बनाने का कोई औचित्य नहीं समझ रहे हैं पर इसपर कुछ भी बोलने से परहेज कर रहे हैं। बिहार राज्य पथ विकास निगम को यह बात बताया गया है कि आहर के बीच में बाईपास सड़क बनाना उचित नहीं है। सुदीबिगहा होते हुए जो पक्की सड़क है वह देव के रिंग रोड में शामिल है। अब यह सड़क नगर पंचायत क्षेत्र में आ गया है। छठ मेला के दौरान इस सड़क पर छठव्रतियों का ठहराव होता है जिससे वाहनों का आवागमन बंद हो जाता है इसे बाईपास नहीं बनाया जा सकता है।

यह भी बताया गया है कि राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के द्वारा आहर एवं पोखर का औचित्य बचाने और संरक्षण के लिए अभियान चलाया रहा है। आहर में बाईपास सड़क का निर्माण के बजाए देव से केताकी जाने वाली सड़क को बाईपास सड़क बनाने का प्रस्ताव जनप्रतिनिधियों एवं ग्रामीणों ने दिया है। यह सड़क गुजराया गांव के पास नहर रोड में मिल जाती है और यही सड़क बाईपास के लिए सबसे उपयोगी है। बाईपास सड़क बनने से कई गांवों को लाभ होगा। प्रभारी डीएम सह डीडीसी अंशुल कुमार ने बताया कि सभी मामलों को देखा जा रहा है। आहर में सड़क का निर्माण कराना संभव नहीं है।

Note: तस्वीर काल्पनिक है।

Most Popular