बिहार के इस रूट पर ट्रेन अब 110 किलोमीटर प्रति घंटे से चलेंगी, 6 घंटे का सफर मात्र इतने घंटे में होगा पूरा

भागलपुर-पटना रेलखंड पर यात्रा करने वाले रेल यात्रियों के लिए बड़ी खुशखबरी है. भारतीय रेल ने इस रेल रूट पर ट्रेनों की रफ्तार बढ़ाने की तैयारी में है. रेलवे के इस फैसले से इस रूट पर यात्रा करने वाले हजारों यात्रियों को लाभ होगा. ट्रेनों की रफ्तार बढ़ने से तकरीबन 1 घंटे की बचत होगी. साथ ही यात्री अपने गंतव्‍य तक पहले के मुकाबले कम समय में पहुंच सकेंगे. जानकारी के मुताबिक, अभी ट्रेनों की औसत रफ्तार 90 से 100 किलोमीटर प्रति घंटा है. रेलवे के फैसले के बाद ट्रेनें 100 से 110 किलामीटर प्रति घंटे की औसत गति से चल सकेंगी.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, जमालपुर-भागलपुर-साहिबगंज-किऊल रेल सेक्शन पर ट्रेनों की रफ्तार तेज़ का फैसला लिया गया है. अब ट्रेनें 90 की जगह 110 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलेंगी. बतया जाता है कि रेलवे ने इस बाबत सारी कवायद पूरी कर ली है. अब इस रेलखंड पर एक्सप्रेस, सुपरफास्ट और मेल ट्रेनें 90-100 की जगह 110 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलेंगी. लूप लाइन में भी ट्रेनों की गति औसतन 15 की जगह 30 किमी होगी.

ट्रेनों की रफ्तार बढ़ने की स्थिति में आमलोगों के साथ ही रेलवे को भी इसका फायदा होगा. यात्री जहां पहले अपने गंतव्‍य तक पहुंच सकेंगे, वहीं रेलवे को रूट को फ्री करने में मदद मिलेगी. इससे ट्रेनें ज्‍यादा लेट नहीं होंगी. फिलहाल अक्‍सर ऐसा देखने को मिलता है कि एक ही रूट में कई ट्रेनों के होने के कारण उनके परिचालन में देरी होती है. इससे यात्रियों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. बता दें कि पूर्वी रेलवे के मुख्य अभियंता ने भागलपुर-पटना रेल रूट पर ट्रेनों की रफ्तार 10 किमी प्रति घंटे बढ़ाने की सहमति दे दी है.

बात दें कि भागलपुर से पटना तक की यात्रा करने में औसतन 5 से 6 घंटे तक का वक्‍त लगता है. ट्रेनों की गति बढ़ने पर यह सफर 4 घंटों में पूरा किया जा सकेगा. इस तरह 1 से 2 घंटे की बचत हो सकेगी. रेलवे ने पिछले कुछ महीनों में रेल रूट को अपग्रेड किया है. उसके बाद चरणबद्ध तरीके से ट्रेनों की रफ्तार बढ़ाई जा रही है.