बिहार के इस नदी पर फिर से शुरू होगा बालु खनन, जनता को होगा फ़ायदा

218 दिनों के बाद जिले के सोन नदी के 31 बालू घाटों में खनन शुरू होगा. इसके साथ ही 219 दिनों के बाद जिले की बालू मंडियां गुलजार होंगी. बालू खनन शुरू होते ही सरकारी से लेकर निजी क्षेत्रों में निर्माण की गति तेज हो जायेगी. बालू खनन शुरू करने के लिए जिला प्रशासन ने जिले की सोन नदी में 31 घाटों को चिह्नित किया है, जिसके लिए बिहार मेटल कॉरपोरेशन ने इ-टेंडर की निविदा आमंत्रित की है. निविदा आगामी चार दिसंबर को खोली जायेगी और छह दिसंबर की आधी रात से बालू खनन शुरू होगा.

सात दिसंबर से जिले की मंडियों में बालू की बिक्री शुरू हो जायेगी. जिलाधिकारी धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि जिला समन्वय समिति की बैठक में खनन विभाग ने उक्त जानकारी दी है. ऐसे में कहा जा सकता है कि आगामी सात दिसंबर से जिले में बालू उपलब्ध होने लगेगा. इसके बाद निर्माण कार्य में गति आयेगी. गौरतलब है कि इसी वर्ष 30 अप्रैल को सोन नदी के घाटों पर बालू खनन में लगी आदित्य मल्टीकॉम कंपनी ने खनन कार्य से अपने को अलग कर लिया था.

एक मई से बालू खनन कार्य बंद हो गया था. तब से अब तक बालू खनन की शुरुआत नहीं हो सकी थी, जिसके कारण जिले में अवैध रूप से बालू खनन व बिक्री के कार्य से प्रशासन भी परेशान था. भंडारण के बालू में खेल हो जाने से प्राथमिकी दर्ज करने तक की नौबत आ गयी थी. हालांकि भंडारित बालू और अवैध खनन पर नजर रखने के लिए जिलाधिकारी ने संबंधित क्षेत्र के अंचलाधिकारी व थानाध्यक्षों को सतत निगरानी का निर्देश दिया है.