बिहार के इन 8 जिलों के बालू घाटों का टेंडर स्थगित नहीं हो सकेगा खनन, जानिए किन जिलों में मिल रहा महंगा

पटना सहित आठ जिलों के बालू घाटों के बंदोबस्तधारियों का चयन करने के लिए जारी टेंडर को स्थगित कर दिया गया है. खनन निगम के जीएम ने गुरुवार को बताया कि एनजीटी ने दो मामलों में सुनवाई के दौरान 25 अक्तूबर को आदेश दिया, जिसके आलोक में टेंडर स्थगित किया गया है.

इन जिलों में बालू खनन करीब सात महीने से बंद है, जिसके बाद से इन जिलों में लोगों को दो से तीन गुनी कीमत पर बालू खरीदना पड़ रहा है. फिलहाल एक अक्तूबर से आठ जिलों-नवादा, अरवल, बांका, पूर्वी चंपारण, मधेपुरा, किशनगंज, वैशाली और बक्सर में बालू खनन जारी है. दरअसल, पुराने बंदोबस्तधारियों ने खनन राजस्व बढ़ने के बाद बालू घाटों का संचालन करने से मना कर दिया था.

सूत्रों के अनुसार बिहार राज्य खनन निगम ने पटना, सारण, भोजपुर, औरंगाबाद, रोहतास, गया, जमुई और लखीसराय के बालू घाटों की बंदोबस्ती के लिए टेंडर निकाला था. टेंडर भरने की अंतिम तिथि 20 अक्तूबर थी. 21 अक्तूबर को इसका तकनीकी बिड खोला गया था. 27 अक्तूबर को टेंडर के माध्यम से बंदोबस्तधारियों का चयन होना था.