बिहार के इन ट्रेनों में अब सफर करना हो जायेगा महंगा, स्लीपर कोच हटाकर लगाया जा रहा है एसी कोच

कोरोना काल के बाद रेलवे द्वारा कई नियमों में बदलाव किया जा रहा है। कई ट्रेनों के सिर्फ नंबर बदलकर स्पेशल ट्रेन के नाम पर उसका किराया बढ़ा दिया गया है। यात्रियों की जेब अच्छी तरह से ढीली हो रही है। अब रेलवे ने फैसला किया है कि पूर्व मध्य रेल के दो ट्रेनों में स्लीपर कोच को हटाकर थर्ड एसी का कोच लगाया जाएगा। इससे उन यात्रियों को दिक्कत होगी जो स्लीपर ट्रेन में सफर करते हैं अब उन्हें दोगुने से भी अधिक किराया में सफर करना पड़ेगा।

इन ट्रेनों में बदले जा रहे हैं कोच।

रेलवे ने मुजफ्फरपुर के रास्ते सहरसा व नई दिल्ली के बीच चलने वाली 02553/ 54 वैशाली सुपर फास्ट एक्सप्रेस एवं हाजीपुर के रास्ते सहरसा व आनंद विहार टर्मिनल के बीच चलने वाली 05279/ 80 पूरबिया एक्सप्रेस में तीन स्लीपर कोच को हटाकर थ्री टियर एसी के तीन कोच लगाने का निर्णय लिया है।

अब देना होगा इतना किराया।

इन ट्रेनों में कोच के बदले जाने के बाद स्लीपर में यात्रा करने वाले यात्रियों को मजबूरन एसी कोच में यात्रा करना पड़ेगा। एक कोच में 72 बर्थ होते हैं। अप-डाउन मिलाकर छह कोच में 864 यात्रियों को स्लीपर के बदले एसी कोच में यात्रा करनी पड़ेगी। इससे प्रत्येक यात्री को 540 रुपये के टिकट के बदले 1420 रुपये टिकट पर खर्च करना पड़ेगा।

बदलाव के बाद दोनों ट्रेनों में दो पावर कार कोच, चार सामान्य कोच, छह स्लीपर, एसी थ्री के छह, एसी टू टियर के दो और एसी फर्स्ट के एक कोच के अलावा एक पेंट्रीकार रहेगा। बदलाव के बाद वैशाली सुपरफास्ट एक्सप्रेस(अप एंड डाउन) 1 और 2 अक्टूबर से अपने नए संरचना के साथ चलेगी। पुरबिया एक्सप्रेस( अप एंड डाउन) 6 और 7 अक्टूबर से अपने संशोधित संरचना के साथ चलेगी।