बिहार का पहला एक्सप्रेस-वे का निर्माण जल्द हो सकता है शुरू, जानिए कहाँ से कहाँ तक बनेगा

बिहार का पहला एक्सप्रेस-वे पटना से कोलकाता के बीच बनेगा। पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन ने गुरुवार को सहयोग कार्यक्रम के बाद भाजपा के प्रदेश मुख्यालय में पत्रकारों को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि भारत माला फेज-2 में बिहार की जिन सड़कों को शामिल किया गया है, उसमें एक्सप्रेस-वे भी है। यह पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे जैसा होगा। नितिन नवीन ने कहा कि पटना में बन रहा रिंग रोड का काम भारतमाला के फेज-1 के तहत चल रहा है। काम पूरा होने पर पूर्वाचल एक्सप्रेस-वे के जैसी सड़कें पटना में भी दिखेंगी। बिहार में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की सरकार ने 15 वर्षों के कार्यकाल में सड़कों का कायाकल्प किया है। राज्य के हर गांव से 40 किलोमीटर की दूरी पर फोर लेन सड़क हो, इस पर काम चल रहा है।

समीक्षा बैठक को लेकर विपक्ष को बोलने का अधिकार नहीं

शराबबंदी कानून को लेकर विपक्ष द्वारा सवाल खड़ा किए जाने पर बिहार के पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन ने कहा कि समीक्षा बैठक को लेकर विपक्ष को बोलने का अधिकार नहीं है। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव हमेशा गायब रहते हैं, इस पर उन्हें जबाव देना चाहिए। राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की सरकार के कार्यकाल पर राष्ट्रीय जनता दल (राजद) से सर्टिफिकेट की आवश्यकता नहीं है।

बता दें कि भारतमाला-2 के तहत पटना-कोलकाता एक्सप्रेस के तहत सड़क बिहारशरीफ के बाद पूरी तरह से नई होगी। पटना से कोलकाता एक्सप्रेस वे बिहार की पहली सड़क होगी जो एक्सेस रिस्ट्रिक्टेड होगी। बीच में कोई वाहन इस रोड पर नहीं दिखेगा। यह पटना-बख्तियारपुर फोर लेन होते हुए बख्तियारपुर-रजौली से निकलेगा। नालंदा (बिहारशरीफ) से इसका एलायनमेंट अलग हो जाएगा। जिस रास्ते से यह रोड आगे बढ़ेगा उस पर अभी कोई सड़क नहीं है। खास बात यह भी है कि शेखपुरा, सिकंदरा, चकाई, मधेपुर, मधुपुर, दुर्गापुर और पानागढ़ होते हुए यह सड़क दालकुनी से आगे बढ़ेगी।

Note: तस्वीर काल्पनिक है।