पीएम मोदी ने की उज्जवला योजना 2.0 की शुरुआत, अब एड्रेस प्रूफ की अनिवार्यता समाप्त

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने आज मंगलवार 10 अगस्त को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उज्वला योजना 2.0 की शुरुआत की। श्री मोदी ने इसकी शुरुआत उत्तर प्रदेश के महोबा से की। इस योजना के तहत गरीबी रेखा से नीचे (BPL) कार्ड धारकों को मुफ्त में गैस का कनेक्शन दिया जाएगा। इस दौरान मंत्री ने योजना के लाभार्थियों से बातचीत भी की।

पीएम मोदी ने शिलान्यास के दौरान कहा कि उत्तर प्रदेश सहित पूर्वी भारत के अनेक जिलों में PNG कनेक्शन देने का काम तेजी से चल रहा है. पहले चरण में यूपी के 50 से ज्यादा जिलों में करीब 21 लाख घरों को इससे जोड़ने का लक्ष्य रखा गया है। सरकार का प्रयास इस दिशा में भी है कि आपकी रसोई में पानी की तरह गैस भी पाइप से आए। ये गैस सिलेंडर के मुकाबले बहुत सस्ती भी होती है। दूसरी महत्वपूर्ण योजना है गोवर्धन योजना। ये योजना गोबर से बायो गैस बनाने को प्रोत्साहन देती है। इससे गांवों में स्वच्छता भी आएगी और ऐसे पशु जो डेरी सेक्टर के लिए उपयोगी नहीं है, वो वह भी कमाई का जरिया बन सकेंगे।

गौरतलब हो कि जब साल 2016 में जब उज्ज्वला 1.0 लॉन्च की गई थी तब गरीबी रेखा के नीचे आने वाली (BPL) 5 करोड़ महिलाओं को एलपीजी कनेक्शन देने का टारगेट तय किया गया था। प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत सरकार गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों के लिए घरेलू रसोई गेस यानी एलपीजी कनेक्शन मुहैया करती है। इससे ग्रामीण इलाकों में गरीब तबके की महिलाओं को काफी मदद पहुंची है।

इसके अलावा बीपीएल परिवारों को एक एलपीजी कनेक्शन के लिए 1600 रुपये की वित्तीय सहायता भी दी जाएगी हालांकि लाभार्थियों को चूल्हा खुद खरीदना पड़ता है योजना के अनुसार, लाभार्थियों को 14.2 किलो का एलजीपी सिलेंडर दिया जाता है। इसकी लागत करीब 3200 रुपये होती है. इस पर 1600 रुपये सब्सिडी मिलती है जबकि 1600 रुपये OMCs एडवांस के रूप में मिलते हैं।

इस योजना का लाभ वे व्यक्ति ले सकते हैं जिनकी उम्र से अधिक है और उनके पास बीपीएल कार्ड है। अब से इस योजना के लिए एड्रेस प्रूफ की कोई आवश्यकता नहीं है