पटना से कोलकाता तक बनेगा एक अलग तरह का शानदार एक्सप्रेसवे, जानें क्या होगी खास बात

केंद्र सरकार के महत्वकांक्षी योजना भारतमाला -2 के तहत पटना से कोलकाता तक शानदार एक्सप्रेसवे बनने जा रहा है। यह अपनी तरह का पहला ऐसा एक्सप्रेस वे होगा। यह एक्सप्रेस वे एक्सेस रिस्ट्रिक्टेड होगा। यानी सड़क के बीच से कोई वाहन प्रवेश नहीं कर सकता। बंगाल में इसे बंदरगाह की कनेक्टिविटी मिलेगी। इसी बात को ध्यान में रखकर बिहार सरकार ने इसका प्रस्ताव सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय को भेजा है।

पटना-कोलकाता एक्सप्रेसवे पटना-बख्तियारपुर फोर लेन होते हुए बख्तियारपुर-रजौली फोर लेन से निकलेगा। बिहारशरीफ से इसका एलायनमेंट अलग हो जाएगा। यह पूरी तरह से ग्रीन फील्ड है। यानी जिस रास्ते से यह सड़क आगे बढ़ेगी उस पर अभी कोई सड़क नहीं है। शेखपुरा, सिकंदरा, चकाई, मधेपुर, मधुपुर, दुर्गापुर और पानागढ़ होते हुए यह सड़क दालकुनी से आगे बढ़ेगी। इस सड़क की लंबाई 470 किलोमीटर होगी।

इस प्रोजेक्ट के लिए लगभग 2800 हेक्टेयर जमीन की जरूरत पड़ेगी। जिसका अधिग्रहण बिहार और पश्चिम बंगाल की सरकार को करना है। प्रोजेक्ट की कुल लागत 17000 करोड़ रुपए से भी अधिक होने वाली है। इसमें जमीन अधिग्रहण की राशि भी शामिल है। पथ निर्माण विभाग ने बताया कि एक्सप्रेस वे की स्वीकृति का मामला सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय अंतिम चरण में है।