पटना के इस हिस्से में बनेगा 1.4 किलोमीटर लंबी सुरंग, कलाकृतियां सहित ये सारी खूबियां होगी

बिहार म्यूजियम और पटना म्यूजियम को जोड़ने वाली सुरंग में भी एक म्यूजियम बनेगा। इसमें राज्य के इतिहास से जुड़ी उन अवशेषों व कलाकृतियों का प्रदर्शन होगा, जिन्हें अभी बिहार और पटना म्यूजियम में जगह नहीं मिल पाई है। इस सुरंग का निर्माण भी दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन द्वारा कराने का निर्णय लिया गया है।

यह एजेंसी पटना मेट्रो रेल परियोजना पर कार्य कर रही है। नगर विकास विभाग के एक वरीय पदाधिकारी ने बताया कि मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के अनुभव व दक्षता को देखते हुए सुरंग निर्माण का जिम्मा उसे दिया जा रहा है। विभाग द्वारा 1.4 किलोमीटर लंबी इस सुरंग के निर्माण के लिए डीपीआर बनाने का निर्देश डीएमआरसी को दे दिया है। अधिकारी ने बताया कि मुख्यमंत्री के इस ड्रीम प्रोजेक्ट को अगले दो साल में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। बताया कि सुरंग में म्यूजियम बनने से पटना में तीन म्यूजियम हो जाएंगे। सुरंग में म्यूजियम बनाने को लेकर नगर विकास विभाग और कला संस्कृति विभाग में भी सहमति बन गई है।

सुरंग निर्माण के बाद इसे कलाकृतियों व अवशेषों से सजाने व रखरखाव का जिम्मा कला-संस्कृति विभाग को ही दिया जाएगा। राज्य से जुड़ी कई ऐसी कलाकृतियां हैं, जिनको बिहार और पटना म्यूजियम में जगह नहीं मिल पाई है। लगभग 1400 मीटर लंबी सुरंग में कई ब्लॉक होंगे। यहां कलाकृतियों से संबंधित सूचना व अन्य जरूरी जानकारी भी प्रदर्शित की जाएगी। सुरंग के दोनों ओर की दीवारों पर कलाकृतियों का प्रदर्शन होगा। दोनों म्यूजियम के जुड़ने से एक ही जगह से टिकट लेने पर दोनों म्यूजियम का भ्रमण पर्यटक कर सकेंगे।