पटना का मास्टर प्लान 2031 तैयार। हजार वर्ग किलोमीटर तक फैलेगा शहर का दायरा

इन दिनों बिहार सरकार शहरों के इंफ्रास्ट्रक्चर को बेहतर बनाने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। इसी क्रम में पटना को डेवलप करने के लिए मास्टर प्लान 2031 तैयार किया गया है। महानगर का एरिया एक हजार वर्ग किलोमीटर से अधिक होगा। आपको बता दें कि महानगर में पुनपुन से लेकर बिहटा, संपतचक सहित आसपास के कई छोटे कस्बे भी जुड़ेंगे।

पटना महानगर के कौन से इलाके में व्यावसायिक, शैक्षणिक, उद्यौगिक और आवसीय क्षेत्र होगा, इसकी पूरी प्लानिंग तैयार की जा रही है। शहर की प्लानिंग ‘पटना मास्टर प्लान 2031’ और ‘बिहार अरबन प्लानिंग एंड डेवलपमेंट 2031’ के प्रावधानों के तहत होगी।

 

इसको लेकर अधिकारियों की कवायद शुरू हो गई है। आवास एवं नगर विकास विभाग के निर्देश पर पटना मेट्रोपॉलिटन अथॉरिटी ने शहर को शहर को अनुसार पांच ग्रुप में बांटा है। आज ग्रुप को 14 जोन में बांटा जाएगा।

इस जोनल प्लान के तहत टोटल 1065 वर्ग किलोमीटर से अधिक के क्षेत्रफल के विकास का पूरा खाका बनाया जायेगा। फिलहाल इसमें पटना सेंट्रल का क्षेत्रफल 75 वर्ग किलोमीटर, पटना अरबन एरिया का क्षेत्रफल 47.86 किलोमीटर और राजधानी में स्पेशल एरिया 41.19 वर्ग किलोमीटर तय किया गया है।

जोनल डेवलपमेंट प्लान बनाने के लिए पांच ग्रुप तय किये गये हैं. इनमें स्पेशल एरिया, और पटना अर्बन एरिया का पहला ग्रुप, पटना सेंट्रल, संपतचक और मिर्चा का इलाका दूसरा ग्रुप है.

फतुहा, दनियावा व पुनपुन तीसरा ग्रुप, दानापुर, नौबतपुर और मकदुमपुर चौथा ग्रुप है. इसी तरह गोपालपुर, मनेर और बिहटा को मिला कर पांचवां ग्रुप बनाया गया है. इन पांचों ग्रुपों को 14 जोन में बांटा जायेगा. इसमें उस क्षेत्र की लैंडयूज, रोजगार, मार्केट, व्यवसाय से लेकर अन्य सभी जगहों को चिह्नित किया जायेगा.

इस प्लान के तरह शहर में 4 तरह के अलग-अलग चौड़ाई की सड़कें बनेंगी। मुख्य सड़क 80 मीटर चौड़ी होगी। उसके अलावा 60 मीटर 45 मीटर और 30 मीटर चौड़ी सड़कें भी होंगी जो दूसरे को जोड़ेंगी।