बिहार के इस एयरपोर्ट पर बनेगा 7 गुना बड़ा टर्मिनल, जानिए क्या-क्या मिलेगा सुविधा

राजधानी पटना स्थित जयप्रकाश नारायण इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर यात्रियों की भीड़ लगातार बढ़ रही है। एएआई के अनुसार रविवार को पटना एयरपोर्ट पर सबसे अधिक 16,615 यात्रियों का आना-जाना हुआ। ऐसे में एयरपोर्ट पर यात्री सुविधाओं के विकास हेतु काम किया जा रहा है। तेजी से बढ़ रहे पैसेंजर लोड को संभालने के लिए लगभग 800 करोड़ खर्च करके वर्तमान से सात गुना बड़ा आलीशान और अत्याधुनिक टर्मिनल भवन बन रहा है, जिसकी क्षमता सात लाख की बजाय 80 लाख यात्रियों की आवाजाही लायक होगी।

नहीं उतर पाएंगे बड़े विमान।

हालांकि एयरपोर्ट पर अन्य यात्री सुविधाओं का विकास हो रहा है। नए आलीशान टर्मिनल भवन बनाए जा रहे हैं लेकिन रनवे की लंबाई उतनी ही रहेगी। इसके विस्तार की कई योजना बनी, पर जगह की कमी के कारण किसी को मंजूरी नहीं मिली और न ही आगे इसकी आगे गुंजाइश दिख रही है। ऐसे में मध्यम आकार के विमानों के लैंडिंग और टेकऑफ में परेशानी आगे भी जारी रहेगी, जबकि बड़े विमान भविष्य में भी यहां उतर नहीं पायेंगे।

पटना एयरपोर्ट पर ये हैं समस्याएं।

बता दें कि रनवे की कुल लंबाई 6800 फुट है, लेकिन इस्तेमाल लायक लंबाई कम है। पश्चिम की तरफ से उतरने पर केवल 5500 फुट का लैंडिंग रनवे मिलता है। इसके कारण उस तरफ से उतरने पर पायलट को तेज ब्रेक लगाना पड़ता है।रनवे का ग्रिप बेहतर होने से ब्रेक लग जाता है, लेकिन विमान के हिचकोले खाने के कारण पायलट व यात्रियों दोनों के पसीने छूट जाते हैं।

इसके अलावा विमानों के फनल एरिया में सचिवालय टावर के आने के कारण विमान के बायें डैने के उससे टकराने की आशंका बनी रहती है।