Homeबिहारपटना एम्स में अब मरीजों को जांच करवाने बाहर जाने की जरूरत...

पटना एम्स में अब मरीजों को जांच करवाने बाहर जाने की जरूरत नहीं, स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- मेडिकल कॉलेजों में कलेक्ट होगा सैंपल

आने वाले दिनों में पटना एम्स में खसरा की जांच होगी। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जानकारी दी गई कि स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृढ़ करने के लिए सरकार सभी दिशाओं में आवश्यक कार्यवाई कर रही है. स्वास्थ्य के क्षेत्र में सरकार जहां हर बीमारी और रोगियों को लेकर गंभीर है। वहीं खसरा जैसी संक्रामक बीमारी के लिए भी सरकार की ओर से नई पहल की गई है। मीजल्स जैसे संक्रामक बीमारी के जांच के लिए राज्य में पहले से लैब नहीं थे, जिससे मीजल्स रोग प्रबंधन में चिकित्सकों को परेशानी होती थी लेकिन इसे अब स्वास्थ्य विभाग की पहल से इस समस्या को दूर कर लिया गया है। अब खसरा का लैब कंफर्मेट्री टेस्ट एम्स पटना में किया जा सकेगा।

मंत्री मंगल पांडे ने बताया कि राज्य के सभी जिलों से खसरा के संदिग्ध रोगियों के सैंपल को कलेक्ट कर वहां से सीधे पटना एम्स भेजा जाएंगा। जहां उसकी जांच की जाएगी। आम जनों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए यहजांच पूरी तरह से निशुल्क की जाएगी। उन्होंने कहा कि पूर्व में खसरा की जांच की सुविधा प्रदेश में उपलब्ध नहीं होने के कारण लक्षणों के आधार पर इलाज होता था लेकिन जांच सुविधा उपलब्ध होने से ससमय जांच होगी और बीमारी की पहचान हो सकेगी। साथ ही रोग का अधिक प्रभावी प्रबंधन भी हो सकेगा।

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग शिशु मृत्यु दर में कमी लाने के लिए प्रतिबद्ध है। इसको लेकर विभाग पूरी गंभीरता से काम कर रहा है। इसी को ध्यान में रखते हुए नियमित टीकाकरण कार्यक्रम में मीजल्स के टीको को भी शामिल किया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य के सभी मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य अधीक्षक और सिविल सर्जन को मीजल्स के सभी संभावित केसेस के सैंपल पटना एम्स में लैब कंफर्मेशन टेस्ट के लिए भेजने के लिए निर्देशित किया गया है। ऐसा इसलिए ताकि मीजल्स के रोगियों को यथाशीघ्र चिकित्सीय लाभ प्राप्त हो सके।

Most Popular