नीतीश सरकार ने शराबबंदी कानून में कर दिया बदलाव। अब इन एरिया में मिलेगी शराब, जानिए और विस्तार से..

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शराबबंदी कानून 2016 में कई बदलाव किए हैं। यह फैसला बुधवार को कैबिनेट की हुई बैठक में लिया गया। सरकार द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में यह कहा गया है कि, बिहार में मिलिट्री छावनी क्षेत्र और मिलिट्री स्टेशन को शराब भंडारित करने की अनुमति होगी। लेकिन कैंटोनमेंट क्षेत्र के बाहर किसी भी कार्यरत अथवा सेवानिवृत्त सैन्य अधिकारी को शराब रखने अथवा उपभोग करने की अनुमति नहीं होगी।

अब शराब पकड़े जाने पर सील नहीं होगा पूरा आवासीय परिसर।

नए नियमों के मुताबिक अगर किसी परिसर में शराब का निर्माण बोतल बंदी भंडारण बिक्री अथवा आयात निर्यात किया जाता है तो वैसे संपूर्ण परिसर को सील बंद किया जाएगा। लेकिन आवासीय परिसरों का चिन्हित भाग सील बंद किया जाएगा ना कि संपूर्ण परिसर। जैसे कि किसी आवासीय मकान में शराब पकड़ा जाता है तो जिस हिस्से में शराब पकड़ा जाएगा केवल उसी हिस्से को सील किया जाएगा ना कि पूरे आवासीय परिसर को।

शराब लदे वाहनों के लिए ये हैं नियम।

कैबिनेट के निर्णय के अनुसार अब बिहार राज्य से गुजरने वाले मादक द्रव्य से लदे वाहनों को राज्य सीमा के अंदर प्रवेश करने हेतु घोषित चेक पोस्ट पर ही सीमा में प्रवेश करना होगा और घोषित चेकपोस्ट से ही राज्य सीमा से 24 घंटे के अंदर निकलना अनिवार्य होगा। बता दें कि बिहार में 2016 से शराब बंदी लागू है। 2016 के “बिहार मध्य निषेध और उत्पाद अधिनियम”

को संशोधित कर और “बिहार मध्य निषेध और उत्पाद नियमावली 2021” का प्रारूप तैयार किया जा रहा है