दो माह बाद इंटर स्टेट बसों का परिचालन शुरू, किराया बढ़ेगा की नहीं फैसला आज

काेराेना की वजह से लगभग दो महीने बाद रविवार काे बस स्टैंड पर राैनक लाैटी। इंटर स्टेट बस सेवा शुरू हाे गई। बस संचालक बढ़ी हुई डीजल की कीमतों को देखते हुए बस किराया में बढ़ोतरी की तैयारी में हैं। जमशेदपुर बस आनर्स वेलफेयर एसोसिएशन बसों के परिचालन में आ रही दिक्कत और किराए की बढ़ोत्तरी को लेकर सोमवार को बैठक करेगा। एसोसिएशन के कार्यकारी अध्यक्ष अभिषेक कुमार ने कहा- डीजल की कीमत बढ़ने से पुराने किराए पर बसों का परिचालन मुश्किल हो गया है। इससे पहले परिवहन विभाग ने गाइडलाइन जारी कर स्पष्ट किया था कि बस के किराए में काेई बढ़ाेतरी नहीं हाेगी। बता दें कि 22 अप्रैल से लॉकडाउन में अंतरराज्यीय बसों का परिचालन बंद हो गया था।

ओड़िशा-बंगाल के लिए नहीं खुली बसें

पहले दिन पैसेंजर के अभाव में इक्का दुक्का बसों को छोड़ अन्य बसें स्टैंड में ही खड़ी रह गई। भुइयांडीह बस स्टैंड से हर दिन ढाई सौ बसें दूसरे राज्यों के लिए खुलती हैं। इसमें से 50 से अधिक बसें ओडिशा-प. बंगाल जाती है। ओड़िशा और बंगाल के लिए बसे नहीं चलीं।

बसों का परिचालन शुरु किया गया है। लेकिन यात्रियों की कमी है। डीजल के दाम बढ़ने से पुरानी दर पर बस चलाना मुश्किल है। सरकार भाड़े में बढ़ोत्तरी करें नहीं तो बसों का परिचालन पूरी तरह से बंद किया जाएगा। -उपेंद्र शर्मा, संरक्षक, जमशेदपुर बस ऑनर्स वेलफेयर एसोसिएशन।

ड्राइवर-कंडक्टर का टीकाकरण जरूरी, यात्रियाें की डिटेल्स रखनी हाेगी

राज्य सरकार ने इंटर स्टेट बसाें का परिचालन ताे शुरू कर दिया है, लेकिन काेराेना संक्रमण फैलने से राेकने के लिए विशेष हिदायत भी दी है। परिवहन आयुक्त किरण कुमारी पासी ने कहा कि बसाें के ड्राइवर, कंडक्टर और खलासी का वैक्सिनेशन जरूरी है। यात्री भी टीकाकरण कराकर ही बसाें में सफर करें। बस मालिकाें काे यात्रियाें की डिटेल्स भी रखनी हाेगी।

और ये गाइडलाइन :

  • बस की खिड़की खुली रखनी हाेगी, केबिन में किसी भी यात्री के घुसने पर राेक
  • ड्राइवर-कंडक्टर, खलासी और यात्रियों को मास्क पहनना अनिवार्य होगा। सफर से पहले बस की सभी सीट को सैनिटाइज करना होगा।
  • यात्रा के दौरान धूम्रपान, पान, गुटखा और खैनी खाना प्रतिबंधित रहेगा। यात्रा के दौरान जहां-तहां थूकने की भी मनाही हाेगी।
  • कंटेनमेंट जोन में बस को रोकने या वहां से यात्रियों को उतारने-चढ़ाने पर पूरी तरह रोक रहेगी।
  • बस के किराए में किसी तरह की कोई बढ़ोतरी नहीं होगी और सीट से अधिक यात्रियाें काे ले जाने पर राेक रहेगी।
  • जहां तक संभव हो बस की खिड़की को खुला रखना होगा, ताकि हवा का आर-पार प्रसार हो सके।
  • ड्राइवर काे सभी यात्रियाें का नाम, पता, माेबाइल नंबर आदि यात्री पंजी में दर्ज करना हाेगा। यात्रियाें काे भी बस नंबर और यात्रा की तिथि लिखकर रखनी हाेगी।
  • केबिन में यात्रियों का प्रवेश नहीं होगा। ड्राइवर को सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी बस मालिकों को करनी होगी। इस पर उन्हें विशेष ध्यान रखना होगा।