दिवाली – छठ से पहले झारखण्ड से बिहार और उत्तर प्रदेश के लिये चलेंगी स्पेशल ट्रेन, जानिए

धनबाद से उत्तर बिहार और पूर्वांचल जानेवाले यात्रियों के लिए अच्छी खबर। छठ में भीड़ संभालने के लिए तीन स्पेशल ट्रेनें चलाने की तैयारी शुरू हुई है। धनबाद से गोरखपुर, सीतामढ़ी और कटिहार के लिए स्पेशल ट्रेन चलाने का प्रस्ताव मुख्यालय को दिया जा रहा है। डीआरएम आशीष बंसल ने कहा कि छठ से पहले ट्रेनों में लंबी वेटिंग की समीक्षा की जा रही है। कुछ रूटों पर छठ से पहले यात्रियों की भीड़ है। यात्रियों की सुविधा के लिए स्पेशल ट्रेन चलाने का प्रयास होगा। इसके साथ ही कुछ ट्रेनों में अतिरिक्त कोच जोडऩे की भी कोशिश की जाएगी।

धनबाद-टाटानगर स्वर्णरेखा एक्सप्रेस पर अभी निर्णय नहीं

बंद ट्रेनों को चलाने के सवाल पर कहा कि मुख्यालय से रेलवे बोर्ड पर इसकी बातचीत चल रही है। तीसरी लहर की संभावनाओं के कारण फिलहाल वेट एंड वाच की स्थिति है। धनबाद से टाटा जानेवाली स्वर्णरेखा एक्सप्रेस के पटरी पर लौटने के बारे में सीनियर डीसीएम अखिलेश पांडेय ने बताया कि कम यात्रियों वाली ट्रेन की मानीटरिंग कोरोना काल से पहले से ही हो रही थी। यात्रियों की संख्या कम होने के कारण ही ट्रेन अब तक नहीं चल सकी है। मौके पर एडीआरएम आशीष झा मौजूद थेे।

ठेकेदार को किया जाएगा टर्मिनेट

धनबाद हिल कालोनी से ओल्ड स्टेशन कालोनी और गजुआटांड़ को जोड़ने वाला काठ पुल 30 अप्रैल को खतरनाक घोषित कर बंद कर दिया गया। रेलवे ने लोहे का बेरिकेड लगाकर पुल को स्थायी तौर पर बंद कर दिया। इसके पास ही नये फुट ओवरब्रिज का निर्माण हो रहा था। पर ठेकेदार ने बीच में ही काम छोड़ दिया। एक साल से ज्यादा समय से आधा अधूरा ब्रिज हवा में लटका है। इस वजह से कोचिंग डिपो और आसपास काम करने वाले कर्मचारियों को बेरिकेड के ऊपर से छलांग लगाकर आना-जाना पड़ रहा है। रेलवे ने अब तक ठेकेदार को मोहलत दी थी। पर अब कार्रवाई की तैयारी शुरू हो गई है।इस बारे में डीआरएम आशीष बंसल ने कहा कि काम अधूरा छोड़ने वाला ठेकेदार टर्मिनेट होगा।

दिसंबर तक पूरा हो जाएगा दक्षिणी छोर का सब-वे

धनबाद स्टेशन के दक्षिणी छोर पर बन रहे सब-वे का काम दिसंबर तक पूरा कर लिया जाएगा। यह जानकारी डीआरएम ने दी। बताया कि नये साल से सब-वे होकर वाहनों की आवाजाही शुरू हो जाएगी। दक्षिणी छोर पर प्रस्तावित यात्री सुविधाओं का भी विस्तार होगा।