तूफान गुलाब का बिहार में दिखेगा असर, इन जिलों में हो सकती है बारिश

बंगाल की खाड़ी में उठे ‘गुलाब’ तूफान की सक्रियता की वजह से बिहार में भी इसका थोड़ा बहुत असर देखने को मिल सकता है। मौसम विज्ञान केंद्र पटना के अनुसार मानसून की ट्रफ-लाइन बीकानेर, कोटा, सागर, पेंड्रा रोड, झारसुगुडा, सागर होते हुए पूर्व दक्षिण-पूर्व की ओर गुजर रही है। वहीं, चक्रवाती तूफान ‘गुलाब’ उत्तर पश्चिम बंगाल की खाड़ी की ओर अग्रसर है।

एक चक्रवाती परिसंचरण का क्षेत्र उत्तर-पूर्व और पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी के सीमावर्ती क्षेत्रों में अगले 24 घंटों में बनने की संभावना है। वहीं, 29 सितंबर तक पश्चिम बंगाल के तटवर्तीय क्षेत्रों में पहुंचने का पूर्वानुमान है। इन सभी मौसमी प्रभावों के कारण प्रदेश में अगले 24 घंटों के दौरान दक्षिण मध्य, दक्षिण पूर्व बिहार के कुछ स्थानों पर हल्की सी मध्यम वर्षा की संभावना है। वहीं, राज्य के अन्य भागों के एक या दो स्थानों पर हल्की बारिश का पूर्वानुमान है।

आंध्र प्रदेश में दो मछुआरों की मौत, एक लापता

चक्रवाती तूफान ‘गुलाब’ की चपेट में आने से आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले के रहने वाले दो मछुआरों की मौत हो गयी, जबकि एक लापता हो गया. वहीं, तीन अन्य मछुआरे सुरक्षित तट पर आने में सफल रहे हैं. इससे पहले, मौसम विभाग ने आंध्र प्रदेश के उत्तरी इलाकों और ओड़िशा के दक्षिणी इलाकों में ऑरेंज अलर्ट जारी किया था. ओड़िशा में 3409 से अधिक लोगों को निकाला जा चुका है, जबकि 204 लोगों को शेल्टर होम भेजा गया है. वहीं, ओड़िशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने तूफान से उत्पन्न स्थिति की समीक्षा की है.