टाटा का हुआ एयर इंडिया कंपनी ने जीती बोली, बहुत पुराना रिश्ता है टाटा और ऐयर इंडिया का

आख़िरकार इंतज़ार ख़त्म हुआ। न्यूज वेबसाइट ब्लूमबर्ग ने बताया कि टाटा संस ने नेशनल कैरियर एयर इंडिया के लिए बोली जीती है। रिपोर्ट में कहा गया है कि मंत्रियों के एक पैनल ने एयरलाइन के अधिग्रहण के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है। आने वाले दिनों में एक आधिकारिक घोषणा की उम्मीद है।

सूत्रों ने बताया कि, “टाटा ने एयर इंडिया के लिए सबसे ऊंची बोली लगाई है।” उन्होंने कहा कि विनिवेश रोलआउट पर एक आधिकारिक निर्णय अगले कुछ दिनों में लिया जाएगा। CNBC TV-18 ने बताया है कि सरकार की योजना दिसंबर तक एयरलाइंस को उसके नए मालिकों को सौंपने की है।

टाटा ने शुरू किया था आज का एयर इंडिया।

बता दें कि एयर इंडिया, जिसे मूल रूप से टाटा एयरलाइंस कहा जाता था इसकी स्थापना 1932 में महान उद्योगपति और परोपकारी जेआरडी टाटा द्वारा की गई थी, जो भारत के पहले लाइसेंस प्राप्त पायलट भी थे। 1947 में भारत की स्वतंत्रता के समय इसका राष्ट्रीयकरण किया गया था। टाटा इस फ्लैग कैरियर को खरीदने के लिए पसंदीदा थे, क्योंकि यह कंपनी देश का सबसे बड़ा समूह एयर इंडिया में बड़ी रकम डालने और इसे सुधारने में सक्षम है।