Homeझारखंडझारखण्ड से कई लंबी दुरी की ट्रेनें चलाने का प्रस्ताव, इस दिन...

झारखण्ड से कई लंबी दुरी की ट्रेनें चलाने का प्रस्ताव, इस दिन रेलवे की होगी बैठक

दक्षिण पूर्व रेलवे की क्षेत्रीय रेलवे उपयोगकर्ता परामर्श दात्री समिति यानी जेडआरयूसीसी (ZRUCC) की 102वीं बैठक 19 जनवरी 2022 को प्रस्‍ताव‍ित है। कोविड संक्रमण को देखते हुए यह बैठक पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार कोलकाता में आनलाइन माध्यम से होगी।

क्षेत्रीय रेलवे उपयोगकर्ता परामर्श दात्री समिति की बैठक प्रस्‍ताव‍ित

क्षेत्रीय रेलवे उपयोगकर्ता परामर्श दात्री समिति में फेडरेशन आफ झारखंड चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज भी सदस्य है। बैठक में दक्षिण पूर्व रेलवे की यात्री सुविधाओं में बढ़ोतरी के लिए फेडरेशन आफ झारखंड चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज ने जेडआरयूसीसी ZRUCC के सचिव ऋत्विक शर्मा को सुझाव प्रस्ताव दिया है।

टाटा एलटीटी अंत्योदय एक्‍सप्रेस को सुपरफास्ट बनाने का प्रस्‍ताव

फेडरेशन आफ झारखंड चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज द्वारा दिए गए सुझावों में टाटा लोकमान्‍य त‍िलक टर्म‍िनल LTT एलटीटी अंत्योदय एक्‍सप्रेस ट्रेन को सुपरफास्ट ट्रेन बनाकर चलाने का सुझाव दिया गया है। वर्तमान में हावड़ा से आने वाली ट्रेन में टाटानगर के यात्रियों को आरक्षण में काफी परेशानी होती है। इस ट्रेन में महीने भर तक भी कंफर्म टिकट नहीं मिल पाता है। टाटा लोकमान्‍य त‍िलक टर्म‍िनल LTT एलटीटी अंत्योदय एक्‍सप्रेस ट्रेन को सुपरफास्ट ट्रेन बनाकर चलाने से झारखंड और आसपास के राज्यों के यात्रियों को मुंबई (महाराष्ट्र) जाने के लिए एक सुविधाजनक ट्रेन उपलब्ध हो जाएगी।

रांची वाराणसी जनशताब्दी तथा रांची जयपुर सुपरफास्ट ट्रेन की मांग

फेडरेशन आफ झारखंड चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज के सदस्‍य आदित्य मल्होत्रा ने लंबी दूरी की कुछ प्रमुख ट्रेनों को लोहरदगा टोरी लाइन से चलाने का भी प्रस्ताव दिया है। इन प्रस्तावों में रांची लखनऊ वाया वाराणसी तथा रांची गोरखपुर वाया वाराणसी के साथ ही इस लाइन से रांची वाराणसी जनशताब्दी तथा रांची जयपुर सुपरफास्ट नई ट्रेन के परिचालन की बात कही गई है।

मुरी चांडिल रेल लाइन के दोहरीकरण की आवश्यकता

फेडरेशन आफ झारखंड चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज ने मुरी चांडिल रेल लाइन के दोहरीकरण की आवश्यकता पर जोर देते हुए कहा है कि इस लाइन का दोहरीकरण होने से हावड़ा से टाटानगर, रांची, लोहरदगा, गढवा, चोपन, चुनार होते हुए मेन लाइन में मिल जाएगी। हावड़ा से टाटानगर, रांची, लोहरदगा, गढ़वा, रेणुकूट, कटनी होते हुए मुंबई लाइन के लिए एक वैकल्पिक मार्ग उपलब्ध होगा, जो यात्री और माल परिवहन के लिए अनुकूल होगा।

19 जनवरी की बैठक में होगी चर्चा

रांची लोहरदगा टोरी तथा चाकुलिया बांग्रीपोसी नई रेल लाइन का निर्माण भी प्रस्तावित किया गया। यह कहा गया कि चाकुलिया बांग्रीपोसी नई रेल लाइन के निर्माण से पाराद्वीप बंदरगाह जाने में 58 किमी की बचत होगी। जो माल परिवहन के लिए जरूरी है। चैंबर अध्यक्ष धीरज तनेजा ने कहा कि झारखंड से रेल सुविधाओं में बढोतरी के लिए फेडरेशन चैंबर द्वारा हरेक स्तर पर अपने सुझाव दिए जा रहे हैं। दक्षिण पूर्व रेलवे की 19 जनवरी की बैठक में सुझावों पर अमल किए जाने की उम्मीद है।

Note: तस्वीर काल्पनिक है।

Most Popular