झारखण्ड में 6 से 8वीं के खुलेंगे स्कूल, मंदिर में इतने लोगों को जाने की परमिशन, जाने विस्तार से

झारखंड के सभी मंदिरों समेत तमाम धार्मिक स्थल खोलने के निर्देश दे दिए गए हैं। इसके अलावा राज्‍य में कक्षा 6 से ऊपर के सभी क्लासों में पढ़ाई नियमित होगी। मुख्‍यमंत्री हेमंत सोरेन की अध्‍यक्षता में आपदा प्रबंधन प्राधिकार की बैठक में य‍ह निर्णय लिया गया। सभी कॉलेज भी नियमित रूप से खुलेंगे। इसके अलावा रेस्टोरेंट्स रात के 11:00 बजे तक खुले रह सकते हैं। आज मंगलवार को मुख्‍यमंत्री ने मंत्री और विभागीय सचिवों के साथ आपदा प्रबंधन प्राधिकार की बैठक की। बड़े मंदिरों में 1 घंटे में 100 लोगों को प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। इसके अलावा छोटे मंदिरों में 50 लोगाें को जाने की अनुमति होगी।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में मंगलवार को राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकार की उच्च स्तरीय समिति की बैठक में कक्षा छह व उससे ऊपर के सभी क्लास ऑफलाइन चलाने की अनुमति दे दी गई है। अब सभी विद्यालय ऑफलाइन क्लास के मुद्दे पर छात्र-छात्राओं के अभिभावकों की सहमति लेकर क्लास शुरू कर सकते हैं। इतना ही नहीं, राज्य के सभी धार्मिक स्थलों को भी खोलने का निर्देश दे दिया गया है। अब यहां पुजारी के अलावा श्रद्धालु भी जा सकेंगे।

बड़े मंदिरों में एक घंटे में 100 श्रद्धालुओं के प्रवेश की अनुमति दी जाएगी, जबकि छोटे मंदिरों में 50 श्रद्धालुओं के प्रवेश की अनुमति होगी। सभी कॉलेज नियमित रूप से खुलेंगे। राज्य में शराब की दुकानें, बीयर बार आदि रात के दस बजे तक खुलेंगे। रेस्टोरेंट को रात के 11 बजे तक खोलने की अनुमति दी गई है। राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकार की बैठक में साप्ताहिक लॉकडाउन को समाप्त कर दिया गया है।

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए अप्रैल महीने से ही स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह चल रहा था। कोरोना वायरस का प्रकोप जैसे-जैसे कम होता गया, राज्य सरकार छूट का दायरा बढ़ाती चली गई। पूर्व में कक्षा नौ व उससे ऊपर की कक्षाओं को ऑफलाइन चलाने की अनुमति दी गई थी। अब कक्षा छह व उससे ऊपर के कक्षाओं के संचालन की अनुमति दे दी गई है।