झारखण्ड में भी बिहार की तर्ज पर नियमित होंगे पारा शिक्षक, पढ़िये विस्तार से

झारखंड के पारा शिक्षकों के लिए अच्छी खबर है। राज्य सरकार बिहार की तर्ज पर पारा शिक्षकों नियमित करने जा रही है। नियमित होने पर परा शिक्षकों को 5200-20200 का वेतनमान मिलेगा। टेट परीक्षा पास होने वाले शिक्षकों वेतनमान दिया जाएगा। वहीं जो पारा शिक्षक टेट पास नहीं कर पाते उन्हें हटाया नहीं जाएगा बल्कि वे पारा शिक्षक ही बने रहेंगे।

शिक्षा विभाग की ओर से मिली जानकारी के अनुसार, टेट पास पारा शिक्षकों का सीधे वेतनमान मिलेगा। बाकी शिक्षकों के लिए तीन सीमिति परीक्षाएं होंगी। सीमित परीक्षाओं का आयोजन 6-6 माह के अंतराल में किया जाएगा।

बता दें कि शिक्षा मंत्री ने पारा शिक्षकों के स्‍थायीकरण, वेतनमान, कल्‍याण कोष के लिए आज बैठक बुलाई थी। इसमें पारा शिक्षक संघ के तीन-तीन प्रतिनिधि शामिल थे। जगरनाथ महतो के स्‍वस्‍थ होने के बाद उनकी यह पहली बैठक है।

शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो के साथ वार्ता में बिहार की तर्ज पर पारा शिक्षकों को नियोजित करने पर सहमति बनने के बाद एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा ने 15 अगस्त से प्रस्तावित अपना आंदोलन स्थगित कर दिया है। इधर, शिक्षा मंत्री ने वार्ता के बाद अगली प्रक्रियाओं के लिए तिथि निर्धारित कर दी है। इसके तहत 11 अगस्त को विभाग के पदाधिकारी पारा शिक्षकों को नियमित करने को लेकर बैठक करेंगे। अगले दिन 12 अगस्त को मंत्री विभागीय पदाधिकारियों के साथ बैठक करेंगे।

इसमें पदाधिकारी तैयार की जा रही नियमावली की जानकारी मंत्री को देंगे। इसके बाद शिक्षा मंत्री 18 अगस्त को पारा शिक्षक के प्रतिनिधियों के साथ एक बार फिर बैठक करेंगे। पारा शिक्षकों के अनुरोध पर आकलन परीक्षा में न्यूनतम 30 प्रतिशत अंक लाने की अनिवार्यता पर भी वार्ता में सहमति बनी है। पारा शिक्षकों के साथ वार्ता के क्रम में स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग के सचिव राजेश शर्मा तथा प्राथमिक शिक्षक निदेशक शैलेश कुमार चौरसिया आदि भी उपस्थित थे।