झारखण्ड के इस ज़िला में बनेगा एक और एयरपोर्ट ज़मीन चिन्हित, जानिए कहाँ बनेगा

धनबाद में एयरपोर्ट के लिए भूमि का चयन कर लिया गया है। बलियापुर अंचल कार्यालय ने रिपोर्ट उपायुक्त को भेज दी गई है। दरभंगा में भारी भीड़ के बाद धनबाद में भी जल्द ही हवाई अड्डा का निर्माण किया जाएगा। धनबाद एयरपोर्ट के लिए जमीन चिन्हित करने की कवायद भी तेज कर दी गई है। धनबाद के उपायुक्त संदीप सिंह ने बलियापुर अंचल अधिकारी रामप्रवेश से बलियापुर में चिह्नित की गई जमीन व उसका नक्शा भेजने का निर्देश दिया था। सीओ ने जिला मुख्यालय को दस्तावेज भेज दिए हैं। बलियापुर सीओ ने एयरपोर्ट के लिए जो जमीन चिह्नित की है, उनमें एफसीआई की 90.2 एकड़, गैर आबाद भूमि 120.59 एकड़ और 425.39 एकड़ रैयती भूमि शामिल है।

बता दें कि नगर विमानन विभाग के निदेशक कैप्टन एसपी सिन्हा ने पांच जुलाई 2018 को धनबाद डीसी को पत्र दिया था। प्रस्तावित हवाई अड्डे के लिए दो फेज में 642 एकड़ जमीन बलियापुर में मांगी थी। 18 सितंबर 2018 को बलियापुर के अंचल अधिकारी ने अपर समाहर्ता को जानकारी दी थी कि हवाई अड्डा के लिए भूमि चिह्नित कर ली है। उस समय भी जमीन की जानकारी जिला मुख्यालय को भेजी थी।

धनबाद में एयरपोर्ट निर्माण के लिए लगभग 650 एकड़ जमीन चिन्हित करने पर धनबाद उपायुक्त, जिले की जनता को कांग्रेस नेताओं ने धन्यवाद दिया है। जिला कांग्रेस कमेटी की बैठक हाउसिंग कॉलोनी कार्यालय में की गई जिसमें जिला अध्यक्ष के अलावा कई नेता उपस्थित थे। बैठक में कांग्रेस नेताओं ने कहा कि धनबाद में वर्षों से एयरपोर्ट कि मांग और जो सपना है लगता है अब पूरा हो जाएगा।

जिला अध्यक्ष बृजेन्द्र सिंह ने कहा कि एक बार फिर से एयरपोर्ट की उम्मीद कोयलांचल में जगी है। जिला प्रशासन लगभग 650 एकड़ जमीन चिन्हित कर लिया है। कांग्रेस उम्मीद करती है कि जिला प्रशासन जल्द से जल्द चिन्हित जमीन के कागजात नगर विमानन उड्डयन मंत्री को प्रस्ताव सौंप देंगे जिससे कोयलांचल में एक नया एयरपोर्ट बनने की शुरुआत हो जाए. कोयलांचल में एयरपोर्ट होने से आम जनता को राहत मिलेगी।

बताया जा रहा है कि नजरी नक्शा में बलियापुर में प्रस्तावित हवाई अड्डा से धनबाद स्टेशन की दूरी 21 किमी, डीसी आफिस से 20 किमी, गोविंदपुर चौक से 16 किमी, झरिया सीओ आफिस 16 किमी, हर्ल आफिस से छह किमी व बलियापुर चौक से तीन किमी दिखाई गई है। बलियापुर के साथ ही कुल हरियरी, बाघमारा, बड़ादाहा, सांवलपुर, रघुनाथपुर, बांदरचुंवा मौजा में जमीन चिन्हित की गई है।