Homeझारखंडझारखंड में कीचड़ पर राजनीति! बीच सड़क में बैठ कीचड़ से नहाने...

झारखंड में कीचड़ पर राजनीति! बीच सड़क में बैठ कीचड़ से नहाने लगीं विधायक, जानें पूरा मामला..

झारखंड में सियासी माहौल अभी शांत नहीं हुआ कि अब गोड्डा जिले में कीचड़ पर राजनीति शुरू हो गई है. बता दें, जिले के मेहरमा प्रखंड के मुख्य बाजार पिरोजपुर-बाराहाट स्थित सिदो कान्हू चौक के नजदीक एनएच 133 की दुर्दशा के खिलाफ आज सुबह महागामा की कांग्रेस विधायक दीपिका पांडेय सिंह बीच सड़क पर धरने पर बैठ कीचड़ में नहाने लगीं.

विधायक के साथ 20 सूत्री समिति के अध्यक्ष शशांक शेखर सिन्हा सहित अन्य समर्थक भी पानी भरे गड्ढे में उतरे थे. विधायक ने कहा कि जबतक सड़क की मरम्मत का कार्य शुरू नहीं हो जाता, तब तक वह यहां से नहीं हिलेंगी. विधायक ने कहा कि जब तक केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से आश्वासन नहीं मिलता है, तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा. इस दौरान विधायक के समर्थकों ने मेहरमा-पीरपैंती रेलवे स्टेशन और पिरोजपुर- भगैया तथा पिरोजपुर महागामा सड़क को भी जाम कर दिया गया है. आंदोलन की वजह से इन रूटों पर आवागमन प्रभावित है.

 

हरकत में आया स्‍थानीय प्रशासन, तब उठीं विधायक
विधायक के आंदोलन को देखते हुए स्थानीय प्रशासन की ओर से सड़क में जमे पानी को नाली की सफाई कर निकालने का प्रयास शुरू कर दिया गया है. इस दौरान मेहरमा मुख्य बाजार में करीब दो घंटे तक सड़क पर जमे पानी में विधायक बैठी रहीं. स्थानीय प्रशासन की ओर से पानी निकासी की व्यवस्था करने के बाद विधायक धरना स्थल से वापस लौटीं.

विधायक के आंदोलन पर सांसद ने ली चुटकी
इधर, महागामा विधायक दीपिका पांडेय सिंह के आंदोलन पर गोड्डा के सांसद निशिकांत दुबे ने कहा कि महगामा की कांग्रेस विधायक मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के खिलाफ धरना पर बैठी हैं. यह नेशनल हाईवे है, जिसका रखरखाव राज्य पथ निर्माण विभाग करता है. इसके लिए केंद्र सरकार ने 75 करोड़ रुपये छह महीने पहले दे रखे हैं.  राज्य सरकार का पथ निर्माण विभाग, जिसके मंत्री हेमंत सोरेन हैं, की लापरवाही या कमीशनखोरी के कारण यह सड़क नहीं बन पा रही है. इसके पहले भी कांग्रेस विधायक महगामा दिग्घी पथ पर धनरोपनी कर विरोध जता चुकी हैं. कल ही इस पथ का शिलान्यास मुख्यमंत्री ने किया. विधायक साथ थीं.

गोड्डा विधायक अमित मंडल ने भी की तल्ख टिप्पणी
वहीं गोड्डा के भाजपा विधायक अमित मंडल ने कहा कि दीपिका पांडेय सिंह जब विधायक नहीं थी तो गोड्डा शहर के सरकंडा के पास धनरोपनी कर विरोध जताया था. अब विधायक हैं और सरकार में भी हैं, फिर भी अपने एनएच में जलमग्‍न होकर स्नान कर विरोध दर्ज कर रही हैं. जनप्रतिनिधि को अपनी जवाबदेही से भागना नहीं चाहिए. जो अपने दायित्व से भागते हैं, वहीं धनरोपनी और इस तरह से अपना विरोध दर्ज करते हैं. इसके पीछे राजनीतिक सोच होती है कि लोग मुझ पर दोषारोपण ना करके दूसरे पर दोषारोपण करें.

विधायक ने कहा कि किसी भी विधानसभा क्षेत्र की सड़कें 100 फीसद सही नहीं हो सकती हैं. जनप्रतिनिधि को ईमानदारी के साथ समस्याओं के समाधान में अपनी ऊर्जा लगानी चाहिए.  बहरहाल गोड्डा अंतर्गत एनएच में छोटे-छोटे गड्ढे एक-दो जगहों पर हुए हैं, उन्‍हें ठीक करने के लिए एनएच प्रशासन को कहा गया है. पांच साल तक मेरे विधानसभा अंतर्गत एनएच को संवेदक मेंटेन करेगा. तब तक आप सभी सुखद यात्रा का मजा लीजिए. सरकंडा से मिशन चौक का भी कार्य दिसंबर के बाद शुरू हो जाएगा.

एक दिन पहले जर्जर सड़क पर मुंडन और नेताओं के नाम किया था तर्पण
मेहरमा-पीरपैंती राष्ट्रीय राजमार्ग 133 पर मुख्य बाजार पिरोजपुर-बाराहाट स्थित वीर शहीद सिदो कान्हू चौक के नजदीक सड़क की जर्जर हालत के प्रति विरोध जताते हुए स्थानीय लोगों ने मंगलवार को अनोखा प्रदर्शन किया था. बरसात के पानी से भरी सड़क के बीचों बीच सामाजिक कार्यकर्ता रणविजय मिश्रा ने मुंडन कराया और जनप्रतिनिधियों व नेताओं के नाम पर तर्पण किया. सड़क की जर्जर स्थिति को लेकर स्थानीय लोगों में आक्रोश है.

तब इसपर प्रतिक्रिया देते हुए स्थानीय विधायक दीपिका पांडेय सिंह ने कहा कि जब तक यह सड़क एनएच की थी तो उनकी पहल पर राज्य सरकार की ओर से मरम्मत कराई जाती थी. अब यह सड़क एनएच से एनएचएआइ के पास चली गई है.  सड़क बनवाने की जिम्मेवारी केंद्र सरकार की है. सड़क की दुर्दशा के संबंध में यदि किसी को सवाल पूछना है तो सांसद से पूछें. कहा कि बीते सोमवार को झारखंड विधानसभा की सरकारी उपक्रम समिति के चेयरमैन सह जमशेदपुर विधायक सरयू राय के महागामा आगमन पर कमेटी की ओर से एनएच के अधिकारियों से सड़क मरम्मती कराने के संबंध में विचार विमर्श किया गया था. अधिकारियों की ओर से कहा गया कि सड़क का टेंडर फाइनल हो गया है. एनएचआइ की ओर से शीघ्र ही निर्माण कार्य शुरू कराया जाएगा.

Most Popular