झारखंड में करमा की डाली विसर्जित करने गयीं 7 युवतियों की डूबने से मौत

झारखंड के लातेहार में बड़ा हादसा पेश आया है. जिले के बालूमाथ में करमा विसर्जन के दौरान पानी में डूबने से 7 लड़कियों की मौत हो गई. घटना बालूमाथ थाना इलाके के शेरेगाड़ा ग्राम के मननडीह टोला की है. जानकारी के मुताबिक करमा डाल विसर्जन के दौरान 7 लड़कियां डूब गईं. मृतकों की उम्र 10 से लेकर 20 वर्ष के बीच बताई जा रही है. घटना की सूचना पर बालूमाथ पुलिस मौके पर पहुंचकर शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. घटना से गांव में कोहराम मच गया है.

जानकारी के मुताबिक, मृतकों में से तीन आपस में सगी बहनें थीं. मननडीह टोला निवासी अकलू गंझू की बेटियां थीं. मृतकों में रेखा कुमारी (18 वर्ष), लक्ष्मी कुमारी (8 वर्ष), रीना कुमारी (11 वर्ष), मीना कुमारी (8 वर्ष), पिंकी कुमारी (15 वर्ष), सुषमा कुमारी (7 वर्ष), सुनीता कुमारी (17 वर्ष) शामिल हैं. सभी शेरेगाड़ा ग्राम के मननडीह टोला की रहने वाली थीं.

ग्रामीणों के मुताबिक टोरी-बालूमाथ-शिवपुर रेलवे लाइन निर्माण के लिए खोदे गए गहरे गड्ढे में लड़कियां करमा डाल का विसर्जन करने गई थीं. इस दौरान ये हादस पेश आया. ग्रामीणों जब तक मौके पर पहुंचे और लड़कियों को बाहर निकाला, तब तक 4 लड़कियां मौके पर ही दम तोड़ चुकी थीं. बाकी तीन को इलाज के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें भी मृत घोषित कर दिया.

मिली जानकारी के अनुसार दर्जनों युवतियां करम की डाली बहाने मांडर गड़ा गई थीं. वहीं तालाबनुमा गड्ढे में डूबने लगीं और उसे बचाने के क्रम में बारी-बारी से 7 युवतियां डूब गयीं. आसपास के ग्रामीणों ने सभी युवतियों को काफी मशक्कत के बाद बाहर निकाला, जहां चार युवतियां की मौत घटनास्थल पर हो चुकी थी एवं शेष बची तीन युवतियां को बालूमाथ अस्पताल पहुंचाया गया, जहां चिकित्सक डॉ सुरेश राम ने इन्हें मृत घोषित कर दिया. बताया जा रहा है कि टोरी शिवपुर रेल लाइन निर्माण कार्य करा रहे ठेकेदार द्वारा रेल लाइन के बगल में गड्ढे को खोद देने के कारण ये घटना घटी है. घटना के बाद मृतक के परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है.